झारखण्ड वाणी

सच सोच और समाधान

भूमि का अवैध अतिक्रमण पर जिला प्रशासन हुआ अलर्ट, शुरू की कार्रवाई

कुणाल सारंगी

झारखण्ड वाणी में छपी खबर का असर हुआ है. सरायकेला में भू-माफियायों की ओर से सरकारी जमीन पर किए जा रहे अतिक्रमण
झारखण्ड वाणी ने प्रमुखता से लिखा था. जिसके बाद जिला प्रशासन ने इस ओर कार्रवाई शुरू कर दिया है.

सरायकेला: जिले के कई क्षेत्रों में भू-माफियायों की ओर से सरकारी और वन भूमि का अवैध रूप से अतिक्रमण और बिक्री से संबंधित खबर झारखण्ड वाणी ने प्रमुखता से प्रकाशित किया था. जिसके बाद इस मामले को जिला प्रशासन ने गंभीरता से लिया है और इसे लेकर कार्रवाई शुरू कर दी है.
भू-माफियायों और वन भूमी पर अतिक्रमण करने की लगातार मिल रही शिकायतों के बाद जिला प्रशासन गंभीर दिख रहा है. सरायकेला के अनुमंडल पदाधिकारी बसायत कयूम ने सोमवार को गम्हरिया अंचल क्षेत्र के सापड़ा जाकर उक्त गांव में सरकारी भूमि को दखल करने के बाद उसपर हो रहे निर्माण को रुकवा दिया है. इस दौरान मौके पर अंचल के तमाम पदाधिकारियों के साथ-साथ अंचलाधिकारी धनंजय भी उपस्थित थे. उक्त पूरे स्थल का निरीक्षण कर आसपास की भूमि की उन्होंने मापी कराई. करीब पांच घंटे तक लगातार भूमि की मापी होते रही.
इस दौरान एसडीओ बसायत कयूम ने बताया कि कोरोना महामारी के कारण हुए लॉकडाउन के माहौल का फायदा उठाकर कुछ जमीन माफिया अवैध कारोबार में लग गए हैं. जिसकी सूचना जिला प्रशासन को बीते दिन मिली थी. इसके बाद उसपर त्वरित कार्रवाई की प्रक्रिया प्रारंभ की गई. निर्माण कार्य बंद कराए जाने के दौरान उक्त जमीन का कोई भी दावेदार पदाधिकारियों के सामने मौजूद नहीं हुआ. एसडीओ ने बताया कि किसी हाल में सरकारी भूमि का अतिक्रमण या खरीद-बिक्री बर्दास्त नहीं की जाएगी. अतिक्रमणकारियों और भूमाफियाओं पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी.