झारखण्ड वाणी

सच सोच और समाधान

रात दस बजे के बाद बंद कर दी जा रही ब्लड की सेवा , सिविल सर्जन ने बताया तकनीशियन का अभाव

कुणाल सारंगी

जामताड़ा ब्लड बैंक रात दस बजे ही बंद कर दिया जा रहा है. जिससे लोगों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है. स्थानीय लोगों ने इसे चौबीस घंटे तक खोले रखने की मांग की है. वहीं सिविल सर्जन ने
बताया कि ब्लड बैंक में तकनीशियन की नियुक्ति कर दी गई है, जल्द ही ब्लड बैंक के हमेशा खुले रखने की व्यवस्था कर दी जाएगी.

जामताड़ा: जिले में काफी इंतजार के बाद बंद पड़ा ब्लड बैंक शुरू हो पाया. ब्लड बैंक की शुरुआत होने से लोगों को सुकून मिला था कि अब खून को लेकर भटकना नहीं पड़ेगा. काफी उत्साह के साथ ब्लड बैंक का उद्घाटन भी किया गया और लोग इस ब्लड बैंक में अपना स्वेच्छा से ब्लड दान भी कर रहे हैं, लेकिन ब्लड बैंक चौबीस घंटे के बजाय रात दस बजे तक ही खुल रहा है. जिससे लोगों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है. रात में आपात स्थिति में ब्लड जरूरत पड़ने पर लोगों को भटकना पड़ रहा है. जामताड़ा के लोग चौबीस घंटे तक ब्लड बैंक खुले रखने की मांग कर रहे हैं. उनका कहना है कि ब्लड बैंक जब चालू हुआ तो काफी सुकून मिला था, आपात स्थिति में चौबीस घंटे ब्लड बैंक को सेवा देने की जरूरत है, ताकि जब जरूरत हो लोगों को खून आसानी से ब्लड बैंक से मिल जाए, लेकिन ब्लड बैंक से चौबीस घंटा सेवा नहीं मिल पा रही है. जिससे लोगों को परेशानी हो रही है
सिविल सर्जन आशा एक्का ने बताया कि कोविड-19 को लेकर तकनीशियन की नियुक्ति कर दी गई है, इसकी कमी के कारण ही चौबीस घंटे तक ब्लड बैंक नहीं खुल रहा है, लेकिन जरूरत पड़ने पर खून उपलब्ध कराने की व्यवस्था की गई है. उन्होंने कहा कि अगर किसी को जरूरत है तो फोन से संपर्क करने पर ब्लड बैंक से ब्लड उपलब्ध करा दिया जाएगा, जल्द ही ब्लड बैंक में चौबीस घंटे की सेवा चालू कर दी जाएगी.