झारखण्ड वाणी

सच सोच और समाधान

तीन साल की बच्ची ने दी कोरोना को मात, डॉक्टरों ने अस्पताल में की थी खेलने की व्यवस्था

कुणाल सारंगी

पूरी दुनिया कोरोना वायरस से तबाह है. बच्चे से लेकर बुजुर्ग तक इसकी चपेट में आ रहे हैं. जामताड़ा की एक तीन साल की बच्ची ने बेहतर इलाज के कारण कोरोना को मात दी है.
जामताड़ा: जिले की करमाटांड़ की रहने वाली तीन साल की बच्ची प्रगति ने कोरोना वायरस को हरा दिया है. प्रगति और उसकी मां कुछ दिन पहले कोरोना संक्रमित पाई गई, जिसके बाद इन्हें कोविड अस्पताल में भर्ती कराया गया था.
इतनी छोटी बच्ची का इलाज करना डॉक्टरों के लिए किसी चुनौती से कम नहीं था, लेकिन उन्होंने खेल-खेल में बच्ची का बेहतर इलाज कर दिखाया. डॉ दुर्गेश झा ने झारखण्ड वाणी से बातचीत में कहा कि मां-बेटी को एक ही कमरे में अलग-अलग रखा गया. बच्ची के लिए विशेष डाइट चार्ट बनाया गया और इसके अनुसार ही खाना-पीना और दवाएं दी गईं. जल्द रिकवरी के लिए विटामिन सी भी शामिल किया गया.
डॉक्टर दुर्गेश झा ने बताया कि समय मिलने पर वे लोग अस्पताल परिसर में बच्ची के साथ खेलते थे. बच्ची के स्वस्थ हो जाने पर पूरा परिवार बेहद खुश है. बच्ची के मां ने बताया कि अस्पताल में उन्हें बेहतर व्यवस्थाएं दी गई. समय-समय पर डॉक्टर उन लोगों से हालचाल जानते थे. बेहतर इलाज और समय देने के लिए मां ने डॉक्टर और स्वास्थ्यकर्मियों का धन्यवाद किया है.
बेहतर इलाज और विश्वास का ही नतीजा है कि प्रगति कोरोना को हराने में सफल रही. प्रगति अस्पताल से अपने घर लौट चुकी है. वहीं, डॉक्टर बच्चों और बुजुर्गों को लेकर खास हिदायत बरतने की सलाह दे रहे हैं.