झारखण्ड वाणी

सच सोच और समाधान

प्रवासी मजदूरों को स्किल्ड करने की कवायद में जुटा जिला प्रशासन, कहा- दोबारा न करें पलायन

कुणाल सारंगी

गोड्डा में जिला प्रशासन की ओर से प्रवासी मजदूर में हुनर विकसित कर रोजगार उपलब्ध कराने के लिए प्रशिक्षण कार्यक्रम की पहल की गई है. इस दौरान मजदूरों को 16 ट्रेड में प्रशिक्षण दिया जा रहा है. प्रशिक्षण के बाद इन मजदूरों को बैंक ऋण भी उपलब्ध कराया जाएगा.
गोड्डाः जिला प्रशासन की तरफ से प्रवासी मजदूरों को रोजगार उपलब्ध कराने के लिए जिला प्रशासन ने एक प्रशिक्षण कार्यक्रम का आयोजन किया है, जिससे अकुशल मजदूरों में हुनर विकसित कर उन्हें रोजगार दिया जा सकेगा.
गोड्डा जिले में 53 हजार मजदूर प्रवासी लौटे हैं. इन मजदूरों का जिला प्रशासन की तरफ से एक सर्वे कराया गया और उन्हें चिन्हित कर दो वर्गों में बांटा गया है. एक वैसे मजदूर जो पहले से स्किल्ड थे उन्हें उनके हुनर के मुताबिक काम उपलब्ध कराया जाना है. वहीं, दूसरी ओर वैसे अकुशल मजदूर जिनके पास कोई हुनर नहीं है. बता दें कि इन मजदूरों को जिला प्रशासन के निर्देश पर कृषि विज्ञान केंद्र की ओर से 16 ट्रेड में प्रशिक्षण दिया जा रहा है. इसके तहत प्रथम चरण में 535 प्रवासी मजदूर प्रशिक्षण प्राप्त कर रहे हैं. इन्हें मुख्य रुप से पशुपालन, सब्जी की खेती, मशरूम, वर्मी कम्पोस्ट इत्यादि का प्रशिक्षण दिया जा रहा है. प्रशिक्षण के उपरांत इन मजदूरों को बैंक ऋण उपलब्ध कराया जाएगा जिससे ये प्रवासी मजदूर अपने घरों में ही आय प्राप्त कर सकते हैं. मजदूर भी प्रशिक्षण प्राप्त कर ये उम्मीद कर रहे हैं कि उन्हें इससे उनके गांव में रोजगार मिल पाएगा. हालांकि ये प्रशिक्षण पहले भी होता रहा है लेकिन इतने बड़े स्केल पर प्रशिक्षण पहली बार हो रहा है