झारखण्ड वाणी

सच सोच और समाधान

लफंगों से परेशान होकर एक पिता ने की आत्महत्या, नहीं मिली कोई पुलिसिया मदद

कुणाल सारंगी

धनबाद:कानून व्यवस्था पर आज भी लोग आंख मूंदकर भरोसा करते हैं, लेकिन कानून के कुछ रखवाले लोगों के भरोसे को तोड़ने में कोई कसर नहीं छोड़ते हैं, जिससे कितने निर्दोषों की जान जा चुकी है. ऐसी ही एक वारदात धनबाद के झरिया थाना क्षेत्र में देखने को मिली है, जहां मनचलों की गुंडागर्दी और पुलिस की लापरवाही की वजह से एक व्यक्ति ने आत्महत्या कर ली।

धनबाद जिले के झरिया थाना क्षेत्र के रहने वाले 40 वर्षीय रोहित चौधरी नाम के एक व्यक्ति ने लफंगों की हरकत से परेशान होकर आत्महत्या कर ली. घटना के बाद से परिवार में मातम का माहौल है.
मृतक की पत्नी ने बताया कि मामले को लेकर उसके पति 18 जुलाई को झरिया थाना में प्राथमिकी भी दर्ज कराया, लेकिन युवक पर पुलिस ने किसी तरह की कार्रवाई नहीं की. उसके बाद युवक का हौसला और बुलंद हो गया. वह रोहित चौधरी के घर आकर बुरा अंजाम भुगतने की धमकी देने लगा, जिससे तंग आकर उसने आत्महत्या कर ली. मौके पर उपस्थित झरिया थाना के सब इंस्पेक्टर दिलीप टुडू ने कहा कि
सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया और मामले की छानबीन में जुट गई, लेकिन अगर यही काम पुलिस उसके मरने से पहले की होती तो शायद इस तरह की घटना नहीं घटती. मृतक की पत्नी अनिता ने बताया कि उसके मोहल्ले का रहने वाला अंकित नाम का युवक रोजाना उसकी बेटी के साथ छेड़खानी करता था. उसके घर आकर उसकी बेटी से शादी कराने की धमकी दिया करता था. ऐसा नहीं करने पर उसकी बेटी को जान से मारने की धमकी देता था.
मामले की जांच की जा रही है. इस मामले में जब झरिया थाना के इंस्पेक्टर पीके सिंह से फोन पर बात की गई तो उन्होंने बताया कि रोहित चौधरी की ओर से थाने में कोई शिकायत नहीं मिली है.