झारखण्ड वाणी

सच सोच और समाधान

जमशेदपुर:कोरोना मरीजों को अस्पतालों में नहीं मिल पा रहा बेड

कुणाल सारंगी

जमशेदपुर। सोनारी निवासी कोरोना के एक संदिग्ध मरीज को सांस लेने में परेशानी हुई तो गुरुवार को वह टाटा मुख्य अस्पताल (टीएमएच) भर्ती होने के लिए पहुंची लेकिन उन्हें बेड नहीं मिला। दूसरे अस्पताल जाने को कहा गया। इसके बाद वह महात्मा गांधी मेमोरियल (एमजीएम) मेडिकल कॉलेज अस्पताल आई तो यहां भी बेड फुल बताया गया। इसके बाद वह घर लौट गई।

इसी तरह, बुधवार को एक कोरोना पॉजिटिव नर्स बेड के लिए एमजीएम से टीएमएच का चक्कर लगाती रही। तीन दिनों के बाद उन्हें बेड मिला। ऐसे तमाम लोग हैं जो बेड के लिए दर-दर भटक रहे हैं। इधर, शहर के कई बड़े अस्पताल बंद होने से हार्ट, किडनी, न्यूरो सहित अन्य रोगियों को भी इलाज मिलना बंद हो गया है। विभिन्न अस्पतालों को मिलाकर लगभग 500 बेड का अस्पताल बंद हो चुका है। शहर की स्थिति भयावह हो चुकी है। जिम्मेदारों ने अगर जल्द ही कोई व्यवस्था नहीं की तो इलाज के अभाव में मरीजों की जान जाने में देरी नहीं होगी।