झारखण्ड वाणी

सच सोच और समाधान

झारखंड का वुहान बनने की ओर जमशेदपुर, समीक्षा कर सख्त निर्णय ले सरकार : भाजपा

कुणाल सारंगी
  •  लॉकडाउन की प्रासंगिकता से इंकार नहीं कि जा सकती : कुणाल षाड़ंगी

[yotuwp type=”videos” id=”Le22P_Oq7iA” ]

जमशेदपुर में कोरोना महासंक्रमण के अति विक्राल रूप पर भारतीय जनता पार्टी ने चिंता जाहिर किया है। इस आशय में प्रतिक्रिया जाहिर करते हुए भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता सह पूर्व विधायक कुणाल षाड़ंगी ने राज्य सरकार का ध्यानाकृष्ट कराया है। सोमवार शाम जारी प्रेस बयान में भाजपा प्रवक्ता ने कहा कि जमशेदपुर ‘झारखंड का वुहान’ बनने की दिशा में अग्रसर है। उन्होंने सरकार से तुरंत हस्तक्षेप करने और स्थिति की समीक्षा कर उचित निर्णय लेने को कहा जिससे वायरस के प्रसार पर नियंत्रण संभव हो। कहा कि वर्तमान स्थिति के मद्देनजर लॉकडाउन की प्रासंगिकता से इंकार नहीं किया जा सकता। पूर्व विधायक सह भाजपा प्रवक्ता ने कहा कि जमशेदपुर में बीते दस दिनों में 55 मृत्यु कोविड-19 के कारण हुई है जो अत्यधिक चिंताजनक है। कहा कि भाजपा पहले भी राज्य सरकार का इस दिशा में ध्यानाकृष्ट कराते हुए परिस्थितियों की समीक्षा करने की बात उठा चुकी है।

पूर्वी सिंहभूम में अबतक 2800 कोरोना संक्रमित लोग, प्रतिदिन 100 नये संक्रमण के मामले और औसतन तीन मृत्यु के आंकड़ें भय और चिंता के कारक हैं। जमशेदपुर का मृत्यु दर राज्य में सर्वाधिक है। भाजपा प्रवक्ता ने कहा कि ज़िले में जिस तरह की व्यवस्था चल रही है इससे कोरोना संक्रमण के प्रसार को रोकना मुमकिन नहीं है। ज़िले की स्वास्थ्य व्यवस्था पर चिंता ज़ाहिर करते हुए भाजपा प्रदेश प्रवक्ता कुणाल षाड़ंगी ने कहा कि अस्पताल एक पर एक बंद होते जा रहे हैं। मेडिट्रीना बंद होने को है, वहीं संक्रमण के कारण कई छोटे अस्पताल और क्लीनिकों को सील किया जा चुका है। जमशेदपुर के 250 डॉक्टर और नर्स संक्रमित पाये जा चुके हैं और चिकित्सकों की संख्या घट रही है। उन्होंने ऐसे हालात में लॉकडाउन की प्रासंगिकता को दुहराया। भाजपा ने जिले की स्वास्थ्य व्यवस्था को प्रभारी सिविल सर्जन के भरोसे चलाये जाने को लेकर भी असंतोष ज़ाहिर किया। कहा कि बीते 30 जून को सिविल सर्जन महेश्वरी प्रसाद के सेवानिवृत्त होने के बाद से स्वास्थ्य व्यवस्था प्रभारी सिविल सर्जन के भरोसे है।