झारखण्ड वाणी

सच सोच और समाधान

यूपीएससी में चाईबासा के दो भाइयों का जलवा

कुणाल सारंगी

चाईबासा के दो भाइयों ने यूपीएससी की सिविल सेवा परीक्षा में अपना परचम लहराया है. सौरभ गुप्ता ने 115वां और अभिनव गुप्ता ने 472वां रैंक हासिल किया है. दोनों चचेरे भाई हैं. अभिनव गुप्ता ने मुंबई में इनवेस्टमेंट बैंकर्स के रूप में जॉब करते हुए यूपीएससी की तैयारी की.

चाईबासा: पश्चिम सिंहभूम जिले के चाईबासा शहर के दो भाइयों ने यूपीएससी की सिविल सेवा परीक्षा में जलवा बिखेरा है. चाईबासा के बड़ी बाजार के रहने वाले सौरभ गुप्ता को 115वां और अभिनव गुप्ता को 472वां रैंक मिला है. सौरभ गुप्ता अभिनव गुप्ता का चचेरा भाई है. दोनों रघुनाथ प्रसाद गुप्ता के पौत्र हैं. अभिनव गुप्ता के पिता का नाम राजकुमार गुप्ता है, जबकि सौरभ गुप्ता के पिता अरुण कुमार गुप्ता हैं. इस शानदार सफलता से दोनों के परिवार में उत्साह है. सौरभ गुप्ता फिलहाल कोलकाता में रहते हैं.
अभिनव गुप्ता मुंबई में इनवेस्टमेंट बैंकर्स के रूप में जॉब करते हुए यूपीएससी की तैयारी की. अभिनव गुप्ता के एक मध्यम वर्ग परिवार से हैं. उनके पिता चाईबासा में साइकिल रिपेरिंग और सेलिंग की दुकान चलाते हैं. अभिनव ने मैट्रिक की पढ़ाई चाईबासा के ही संत जेवियर्स इंग्लिश स्कूल से पूरी की है, जिसमें उन्होंने 97 प्रतिशत अंक प्राप्त किए थे. उन्होंने इंटर की पढ़ाई रांची के डीपीएस कॉलेज से की है, जिसमें उन्होंने 95% अंक लाए थे और उन्होंने ग्रेजुएट एनआईटी कुरूक्षेत्र से इंजिनियरिंग से 2015 में पूरी की, जिसके बाद वो मुंबई में इनवेस्टमेंट बैंकर्स कंपनी में जॉब करने लगे.
अभिनव गुप्ता ने बताया कि उनके घर की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं थी, जिसके कारण वे किसी बेहतर कोचिंग सेंटर में तैयारी नहीं कर पाए, लेकिन उन्होंने यूपीएससी की परीक्षा पास करने की ठान ली थी. उसके बाद क्या था परिश्रम करते गए और आज वर्षों की परिश्रम का परिणाम उन्हें मिला है. उन्होंने अपनी इस सफलता का श्रेय अपने माता पिता को दिया है. अभिनव गुप्ता ने बताया कि समाज के प्रति कुछ बेहतर करने की इच्छा हमेशा से मन में बनी रहती थी. इसलिए उन्होंने यूपीएससी की परीक्षा निकलने की सोची और मेहनत करना शुरू किया. उसके बाद उन्होंने पीछे मुड़कर नहीं देखा, जिसका नतीजा है कि उन्होंने सिविल परीक्षा में 115 वां रैंक लाया.
बता दें कि कुछ साल पहले चाईबासा निवासी हर्ष चिरानियां ने यूपीएससी में 100वां रैंक हासिल कर चाईबासा शहर का नाम रौशन किया था. हर्ष चिरानियां बीजेपी नेता बजरंगलाल चिरानियां के बेटे हैं.