झारखण्ड वाणी

सच सोच और समाधान

वैलेंटाइन डे स्पेशल: प्यार का इजहार करना हुआ महंगा कोरोना ने बढ़ाई गुलाब की कीमत

वैलेंटाइन डे स्पेशल: प्यार का इजहार करना हुआ महंगा कोरोना ने बढ़ाई गुलाब की कीमत

वैलेंटाइन डे पर बाजारों में गुलाब की सबसे ज्यादा मांग होती है. लेकिन इस साल कोरोना महामारी का असर वैलेंटाइन डे पर भी देखने को मिल रहा है. कोरोना की वजह से गुलाब की कीमत में काफी बढ़ोतरी देखी जा रही है. इसके बावजूद बाजारों में हर रंग के गुलाब की मांग देखने को मिल रहे हैं.
जमशेदपुर: वैलेंटाइन डे जिसे प्यार का इजहार करने का दिन कहा जाता है और इस खास दिन के लिए बाजार में आकर्षक गिफ्ट के अलावा गुलाब की डिमांड सबसे ज्यादा होती है लेकिन कोरोना काल के कारण वैलेंटाइन डे में गुलाब के कारोबार पर असर पड़ा है. जबकि गुलाब प्रेमी कहते हैं इस साल गुलाब महंगा है लेकिन गुलाब लेना है. क्योंकि गुलाब खुशबू के साथ-साथ जिंदगी जीने की सीख भी देती है.
जमशेदपुर में वैलेंटाइन डे को लेकर दुकानों में खास तैयारियां की जाती हैं. विशेषकर वैलेंटाइन डे के लिए फूलों की दुकान में बेशुमार गुलाब आकर्षण का केंद्र होते हैं. वैलेंटाइन डे मनाने वाले गिफ्ट कितने भी महंगे खरीदे लेकिन गुलाब का महत्व उससे ज्यादा होता है. वैलेंटाइन वीक में 7 फरवरी से 14 फरवरी तक सातों दिनों को अलग-अलग नाम से मनाते हैं.

वैलेंटाइन डे पर गुलाब का बाजार सबसे ज्यादा होता है. फूल की दुकानों में लाल गुलाब, पीला गुलाब, गुलाबी गुलाब की मांग सबसे ज्यादा होती है. फूल के कारोबार करने वालों को भी इस दिन का इंतजार रहता है लेकिन कोविड-19 के कारण इस बार गुलाब के कारोबार पर असर पड़ा है. जमशेदपुर के फूलों की दुकान में हर साल की अपेक्षा इस साल बाहर से कम गुलाब आये हैं जिसके कारण वैलेंटाइन डे के गुलाब की कीमत बढ़ी हुई है. वहीं इसे खरीदने वाले भी मुंह मांगी कीमत में इसे लेने को आतुर है. जमशेदपुर में बेंगलुरु, महाराष्ट्र, पुणे, रायपुर, नागपुर, बंगाल के बांकुड़ा और कोलकाता से गुलाब का कारोबार होता है. इस खास मौसम में गुलाब बाहर से हवाई मार्ग के जरिए कोलकाता लाया जाता है और कोलकाता से जमशेदपुर लाया जाता है.

जमशेदपुर के पुराने फूल विक्रेता मोहम्मद शमशेर ने बताया कि साल भर गुलाब की बिक्री होती है लेकिन इस खास दिन में गुलाब की डिमांड सबसे ज्यादा होती है. जिनमे बेंगलुरु के लाल गुलाब की मांग सबसे ज्यादा होती है जो सबसे महंगा भी होता है. हर साल जमशेदपुर में बीस लाख के लगभग गुलाब का कारोबार होता रहा है लेकिन इस साल बाहर से गुलाब के नहीं आने से गुलाब महंगा है. कारोबार पर असर पड़ा है. बेंगलुरु, महाराष्ट्र, नागपुर और कोलकाता से मंगाये जाने वाले गुलाब की कीमत अलग-अलग होती है.
कोलकता से आने वाले एक सौ गुलाब के बंडल की कीमत पिछले साल 860 रुपये थी. इस साल 1200 रुपये है.महाराष्ट्र से आने वाले बीस गुलाब के बंडल की कीमत पिछले साल 300-400 रुपये थी. इस साल गुलाब आये ही नहीं नागपुर से आने वाले बीस गुलाब के बंडल की कीमत पिछली दफा आने वाले 20 गुलाब के बंडल की कीमत पहले 600 रुपये थी. इस साल मिक्स गुलाब आए जिसकी कीमत 11सौ रुपये है. रायपुर और कोलकता से लाया गया लाल गुलाब पिछले साल की तुलना में ज्यादा महंगा है
जमशेदपुर में फूलों के थोक कारोबारियों की संख्या लगभग 15 हैं
फूल के दुकान की संख्या लगभग 150

फूल का बुके

पिछले साल 50 से 1500 रुपये इस साल 100 से 3000 रुपयेआर्टिफिशियल बुके 200 से 1500
गुलाब के महंगे होने से बाजार मंदा है लेकिन गुलाब प्रेमी महंगे गुलाब की खरीददारी कर रहे हैं. वह भी मानते हैं कि हर साल की अपेक्षा इस साल गुलाब महंगा है, लेकिन खरीदना भी जरूरी है. क्योंकि गुलाब के जरिए ही हम अपनी दोस्ती अपने प्यार का इजहार करते हैं. गुलाब के जरिये वह इस दिन को एक यादगार पल बनाना चाहते हैं. कांटों में रहकर खिलने वाला गुलाब न सिर्फ अपनेपन का अहसास कराता है बल्कि इस गुलाब के जरिए लाखों का कारोबार भी होता है. जिससे रोजगार भी मिलता है. कोरोना काल होने के कारण गुलाब के कारोबार पर असर पड़ा है, लेकिन गुलाब की खुशबू बरकरार है जो जिंदगी जीने का संदेश देता है.