झारखण्ड वाणी

सच सोच और समाधान

टाटा स्‍टील के सिक्योरिटी विभाग में 210 कर्मचारियों के प्रमोशन पर मंथन शुरू

जमशेदपुर।  टाटा स्टील के सिक्योरिटी विभाग में कार्यरत 210 कर्मचारियों को प्रमोशन देकर सुपरवाइजर, इंस्पेक्टर व सब इंस्पेक्टर बनाया जाएगा। लेकिन किस आधार पर वरीयता तय होगा? इस पर टाटा वर्कर्स यूनियन नेतृत्व ने यूनियन कार्यालय में बैठक की। सिक्योरिटी विभाग में री-ऑर्गेनाइजेशन वर्ष 2016 से लंबित था।

बीते दिनों ही कंपनी प्रबंधन और यूनियन के बीच कर्मचारियों के री-आर्गेनाइजेशन पर सहमति बनी है। जिसके तहत तय हुआ है कि विभागीय कर्मचारियों को प्रमोशन देने का आधार क्या होगा? उन्हें वरीयता के आधार पर या योग्यता के आधार पर प्रमोशन दिया जाए? इस पर पेंच फंसा हुआ है। वहीं, विभाग में कार्यरत 47 कर्मचारी भी री-डिप्लायमेंट होंगे। जिन्हें सिक्योरिटी विभाग से स्थानांतरित कर दूसरे विभागों में भेजा जाएगा। लेकिन इसके पहले सभी कर्मचारियों को जेएन टाटा वोकेशनल ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट से कोर्स करना होगा। लेकिन री-डिप्लॉयमेंट वाले कर्मचारी किस आधार पर चुने जाएंगे। इस पर यूनियन के शीर्षस्थ नेतृत्व ने लगभग एक घंटे मंथन किया। संभवत सोमवार को इस मामले में यूनियन नेतृत्व कंपनी प्रबंधन से वार्ता करने के लिए समय लेगी।

बैठक में ये रहे मौजूद

बैठक में अध्यक्ष आर रवि प्रसाद, डिप्टी प्रेसिडेंट अरविंद पांडेय, महासचिव सतीश कुमार, उपाध्यक्ष सह विभागीय प्रभारी शाहनवाज आलम और सहायक सचिव कमलेश सिंह शामिल हुए।