झारखण्ड वाणी

सच सोच और समाधान

स्वनिधि योजना से जुड़ेंगे फुटपाथ दुकानदार, 10 हजार रुपया मिलेगा ऋण

कुणाल सारंगी

फुटपाथ विक्रेताओं का व्यवसाय फिर से शुरू कराने के लिए प्रधानमंत्री स्ट्रीट वेंडर आत्मनिर्भर निधि (पीएम स्वनिधि) योजना की शुरुआत की गई है. इसी के मद्देनजर सरायकेला नगर निगम क्षेत्र अंतर्गत पंजीकृत विक्रेताओं को लोन दिलाने की कार्य योजना बना ली गई है. सरायकेला: कोरोना संक्रमण की वजह से घोषित लॉकडाउन के कारण फुटपाथ विक्रेताओं का व्यवसाय ठप्प हो गया है. फुटपाथ विक्रेताओं को एक बार फिर से स्थापित करने के उद्देश्य से केंद्र सरकार ने प्रधानमंत्री स्ट्रीट वेंडर आत्मनिर्भर निधि (पीएम स्वनिधि) योजना की शुरुआत की है. इस योजना का लाभ नगर निगम क्षेत्र के फुटपाथ विक्रेताओं को प्रदान करने की कवायद भी नगर निगम द्वारा शुरू की जा चुकी है.

प्रधानमंत्री स्वनिधि योजना के तहत नगर निगम क्षेत्र अंतर्गत पंजीकृत विक्रेताओं को लोन दिलाने की कार्य योजना बना ली गई है. निगम क्षेत्र अंतर्गत अब तक कुल 1063 पथ विक्रेताओं की सूची तैयार की गई है, जिनमें से कुल 6745 विक्रेताओं को ऋण प्रदान किया जाएगा. वहीं, उनके द्वारा नगर निगम कार्यालय में आवेदन भी जमा कराया जा चुका है. इसके साथ ही नगर निगम कार्यालय में आवेदन पत्र जमा किए जा रहे हैं, जिनमें विक्रेताओं का सर्वेक्षण और आवेदन लिया जा रहा है. बैंक, नन बैंकिंग, फाइनेंशियल कंपनी, माइक्रोफाइनेंस इंस्टीट्यूशन के द्वारा लोन प्रक्रिया को सुगम बनाया जाएगा. इन वित्तीय संस्थानों के साथ मिलकर योजना
का लाभ अधिक से अधिक फुटपाथ विक्रेताओं को देने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है.
नगर निगम के मिशन प्रबंधक विनीत कुमार ने योजना के संबंध में जानकारी देते हुए बताया है कि पीएम स्ट्रीट वेंडर आत्मनिर्भर निधि योजना के तहत पथ विक्रेताओं को 10 हजार ऋण उपलब्ध कराया जा रहा है, जिसकी अवधि एक वर्ष में सभी पंजीकृत विक्रेताओं को 7 प्रतिशत की ब्याज सब्सिडी है. पथ विक्रेताओं को डिजिटल लेन देन द्वारा व्यवसाय करने के लिए भी प्रोत्साहित किया जा रहा है. डिजिटल लेन देन के द्वारा पथ विक्रेताओं के लोन ब्याज की राशि शून्य हो सकती है.