झारखण्ड वाणी

सच सोच और समाधान

सुशासन बाबू के सरकार में कोविड अस्पताल को नहीं चाहिए वेंटिलेटर, और ऑक्सीजन

कुणाल सारंगी

पटना: पटना के नालंदा मेडिकल कॉलेज और अस्पताल (एनएमसीएच) में कोरोना मरीजों की दुर्दशा का आलम क्या है, इसकी कई तस्वीरें सामने आई हैं. पटना में कोविड-19 के इलाज का यह सबसे बड़ा अस्पताल है, लेकिन मरीजों को बेड मिलने में भी दिक्कतें आ रही हैं. यहां की हालत से इस अस्पताल में आने वाले लोगों की नींद उड़ी हुई है.

एनएमसीएच में इलाज कराने आईं अंजलि ने बताया कि उनके पति कोविड-19 के मरीज हैं. दानापुर से रेफर होकर उन्हें एंबुलेंस से एनएमसीएच लाया गया है, लेकिन यहां न तो एंबुलेंस में ऑक्सीजन है और न यहां बेड मिल रहा है. एक और मरीज विमल प्रकाश का भी यही हाल है. अस्पताल में ऑक्सीजन के बगैर विमल प्रकाश की सांसें उखड़ रही हैं उधर उनकी पत्नी और ससुर फोन पर मिन्नतें करने में व्यस्त हैं कि किसी तरह एनएमसीएच में दाखिला मिल जाए.