झारखण्ड वाणी

सच सोच और समाधान

सरायकेला में विस्थापितों का आंदोलन शुरू, अपनी मांगों को लेकर जियाडा कार्यालय का किया घेराव

सरायकेला में जियाडा के विस्थापित पुनर्वास गांव के लोगों ने चरणबद्ध आंदोलन की शुरुआत कर दी है. उन्होंने अपनी नौ सूत्री मांगों को लेकर आंदोलन शुरू की है. बुधवार को उन्होंने जियाडा कार्यालय के सामने शांतिपूर्ण विरोध प्रदर्शन के साथ आंदोलन का उलगुलान किया. सरायकेला: जिले के गम्हरिया प्रखंड अंतर्गत झारखंड औद्योगिक क्षेत्रीय विकास प्राधिकार जियाडा के विस्थापित पुनर्वास गांव के लोगों ने प्रशासनिक कार्यालय घेराव के साथ चरणबद्ध आंदोलन की शुरुआत की है. ग्रामीण लगातार गांव में मूलभूत सुविधाओं की मांग कर रहे हैं. गम्हरिया प्रखंड पंचायत समिति सदस्य राम हांसदा के नेतृत्व में जियाडा कार्यालय के सामने शांतिपूर्ण विरोध प्रदर्शन के साथ आंदोलन का उलगुलान किया गया. गम्हरिया क्षेत्र अंतर्गत बंद पड़े टायो रोल्स कंपनी समेत अन्य कंपनियों की लीज रद्द कर जमीन वापस करने की मांग विस्थापित कर रहे हैं. वहीं पुनर्वास क्षेत्र और प्रभावित गांव में प्राधिकार के ओर से आधारभूत विकास नहीं करने पर विस्थापितों ने आक्रोश जाहिर किया है. विस्थापितों का आरोप है कि हजारों एकड़ रैयती भूमि को हस्तांतरित किया गया लेकिन, प्राधिकार के ओर से विस्थापित गांव में सड़क, बिजली, पानी सार्वजनिक शौचालय निर्माण पर आज तक रूचि नहीं दिखाई गई. उन्होंने कहा कि स्थानीय उद्योग धंधों में भी विस्थापितों को रोजगार में प्राथमिकता उपलब्ध नहीं कराई जा रही है, जो कि प्राधिकार का मनमाना रवैया है.
विस्थापितों ने नौ सूत्री मांगों को लेकर बुधवार से चरणबद्ध आंदोलन की शुरुआत की है, जिसके तहत विस्थापित पुनर्वास क्षेत्र में आधारभूत संरचना विकास, जियाडा औद्योगिक क्षेत्र में आदिवासी मूलवासियों को निजी कंपनियों में सीधा रोजगार और कंपनी स्थापना में सहयोग, विस्थापित और स्थानीय लोगों के लिए कॉलेज की स्थापना, इंजीनियरिंग, डिप्लोमा आईटीआई पास छात्रों को स्थानीय उद्योगों में नौकरी समेत अन्य मांग मुख्य रूप से शामिल हैं.