झारखण्ड वाणी

सच सोच और समाधान

सरायकेला खरसावां जिला में आज विश्व पर्यावरण दिवस हर्षोल्लास से मनाया गया है

सरायकेला खरसावां जिला में आज विश्व पर्यावरण दिवस हर्षोल्लास से मनाया गया है

विश्व पर्यावरण दिवस पर शुद्ध पर्यावरण कुशल जीवन का स्रोत है, लेकिन कांड्रा में वन विश्रामागार है ,मगर उसके रेंज में कइयों हेक्टर पर प्लांटेशन किया गया था इससे पहले जो प्लांटेशन किया गया था, सभी पेड़ हिष्ट पुष्ट थे सभी पेड़ बड़े हो गए थे चारों तरफ हरियाली व्याप्त थी उसके चलते वर्षा भी खुब हुआ करता था सारे जगह एकासिया और यूकलिप्टस के पेड़ लगे हुए थे लेकिन वन विभाग उतने सुंदर वन को विभाग नहीं बचा पाया वन विभाग के अधिकारियों की भी नजर गढ गयी और उस हंसते खेलते पेड़ पर लूट खसोट का दौर चला और दो चार वर्ष पूर्व ही जंगल का खात्मा कर दिया गया,उस जंगल के खात्मा करने में वन विभाग के अधिकारियों का पूरा दोष है,कांड्रा वन विश्रमागार से सटे कम से कम पांच किलोमीटर रेंज तक सभी कांड्रा वासी घन घोर जंगल देखा था ,लेकिन अब वन क्षेत्र में बिना काम बाला पेड़ ही दिख रहा हैं जो अपने आप से उग गया है और विभाग का शोभा बढ़ा रहा है जबकि प्लांटेशन बकायदा सुसज्जित तरीके से लगा हुआ था विभाग की ओर से बगल में लकड़ी रखने का डिपो बना हुआ था खासकर जीकेसी रोड़ कम्पनी द्वारा सड़क बनाते समय बहुत सी गाड़ियां उस डिपो में रखा गया था कितनी गाड़ियां उस डिपो में उतरी और कितनी गाड़ियां नीलामी हुई और कितनी गाड़ियां अभी है उसकी भी जांच होनी चाहिए ताकि विभाग का असली चेहरा सामने आ जायेगा