झारखण्ड वाणी

सच सोच और समाधान

शराब का सितम

कुणाल सारंगी

पंजाब: पंजाब में जहरीली शराब पीने के बाद मौत का सिलसिला जारी है। अब तक 86 लोगों की मौत जहरीली शराब पीने से हुई है। 24 घंटे पहले मरने वालों की संख्या 60 थी लेकिन अब यह संख्या 86 पर हो गई है।26 मृतकों की संख्या बढ़ गई है। तरन तारन के गांव की हालत यह है कि लोग एक व्यक्ति का अंतिम संस्कार कर गांव वापस लौटते हैं, तब तक दो-तीन मौतें और हो जाती हैं, बताया जा रहा है कि इस गांव में पिछले 36 घंटों में चूल्हा तक नहीं जला है.

तरन तारन में 42 लोगों की मौत

पंजाब के तरन तारण में सबसे अधिक मौत हुई है। यहां पर 42 लोगों की मौत हुई है,अमृतसर में 12 और बटाला में 9 लोगों की मौत हुई है। इसके अलावे भी कई जिलों में मौत हुई है। कुल संख्या 86 हो गई है। यह सिर्फ सरकारी आंकड़े हैं,जबकि कई गांव के लोगों ने बिना प्रशासन की अनुमति के ही दर्जनों शवों का अंतिम संस्कार कर दिया है।

DSP और दो थानेदार सस्पेंड

लगातार हो रही मौत के पीछे बताया जा रहा है कि लॉकडाउन के दौरान शराब की दुकानें बंद हुई, इस दौरान अवैध शराब माफियाओं ने पुलिस की मदद से जमकर कारोबार किया। यही जहरीली शराब ने अब पंजाब में तांडव मचाना शुरू कर दिया है,शराब माफियाओं से मिली भगत के शक में तरन तारन के एसएसपी ने दो थाना प्रभारी और एक डीएसपी को सस्पेंड कर दिया है। इन अधिकारियों के माफियाओं से रिश्तों के बारे में पता लगा रही है।

इस घटना के बाद पंजाब के सीएम ने जांच का आदेश दिया है. इसके साथ ही दोषियों को जल्द गिरफ्तार करने के लिए बोला है. अब तक 18 लोगों को गिरफ्तार किया गया है।