झारखण्ड वाणी

सच सोच और समाधान

शिकंजे में दो अपराधी हथियार के बल पर व्यवसायी से हुई थी लूट

शिकंजे में दो अपराधी हथियार के बल पर व्यवसायी से हुई थी लूट

सिमडेगा पुलिस ने दो अपराधियों को शिकंजे में लिया है. अपराधी सुदामा सिंह और सूरज बड़ाइक ने एक व्यवसायी को हथियार के बल पर लूटा था.
सिमडेगाः जिला पुलिस ने हथियार के बल पर लाह व्यवसायी से लूट की घटना को अंजाम देने वाले दो अपराधी सुदामा सिंह और सूरज बड़ाइक को धर दबोचा है. पिछले बीस जनवरी को बांसजोर के कुरकुरा बाजार में लाह महुआ की खरीददारी कर रहे एक व्यवसायी से इन दोनों अपराधियों ने पैसे की छिनतई कर फरार हो गए थे. सुदामा सिंह जो पूर्व के छह मामलों में वांछित था. वहीं पुलिस दूसरे का आपराधिक इतिहास खंगाल रही है. गिरफ्तार अपराधी की निशानदेही पर पुलिस ने एक देशी पिस्तौल, एक जिंदा गोली, पल्सर बाइक और मोबाईल फोन बरामद किया है.
पुलिस को हथियार के बल पर व्यवसायी से लूट करने के मामले में शुक्रवार को सफलता मिली है. पिछले बीस जनवरी को कुरकुरा बाजार में लाह महुआ की खरीददारी कर रहे एक व्यवसायी से हथियार के बल पर लूट की घटना को अंजाम दिया गया था. जिसके बाद यह अपराधी वहां से भाग निकले. व्यवसायी के लिखित बयान के आधार पर मामला दर्ज करते हुए पुलिस ने छानबीन शुरू की. जिसके बाद दो अपराधियों को धर दबोचा गया. पुलिस अधीक्षक डॉ शम्स तबरेज ने बताया कि मामला दर्ज होने के बाद पुलिस इन अपराधियों की गिरफ्तारी के लिए लगातार छापामारी कर रही थी. इसी दौरान जलडेगा थाना क्षेत्र के एक पुराने आर्म्स एक्ट संबंधित मामले में वादी से जब गहनता से पूछताछ की गई तो उसने लूटकांड में अपनी संलिप्तता स्वीकार की. अपराधी सुदामा सिंह की निशानदेही पर उसके एक अन्य साथी सूरज बड़ाइक को भी गिरफ्तार किया गया. साथ ही घटना में प्रयुक्त एक देशी पिस्तौल, एक जिंदा कारतूस, मोटरसाइकिल और मोबाईल फोन बरामद कर लिया गया है.

एसपी ने बताया कि अपराधी सुदामा सिंह पर पूर्व से छह अपराधिक मामले दर्ज हैं. पुलिस को लंबे समय से इसकी तलाश थी. जिसे अब गिरफ्तार कर लिया गया है. वहीं दूसरा अपराधी सूरज बड़ाइक का आपराधिक इतिहास खंगाला जा रहा है. यह जिला में कोई पहली घटना नहीं है. जिला में बाजार घाट में आए दिन अपराधियों की ओर से व्यवसायियों से लूटपाट की जाती रही है. हालांकि इधर पुलिस की तत्परता से घटना को अंजाम देने के बाद अपराधी पकड़े भी जा रहे हैं.