झारखण्ड वाणी

सच सोच और समाधान

सहायक पुलिसकर्मियों के समर्थन में आयी विधायक अंबा प्रसाद

रांची में सहायक पुलिसकर्मियों पर लाठीचार्ज को लेकर विधायक अंबा प्रसाद ने उनके पक्ष में खड़े होने की बात कही है. उनका कहना है कि उनकी समस्या का समाधान करना अब सरकार की पहली प्राथमिकता है. रांची: राजधानी में सहायक पुलिसकर्मियों पर लाठीचार्ज को लेकर विधायक अंबा प्रसाद ने उनके पक्ष में खड़े होने की बात कही है. उनका कहना है कि घटना से वह काफी दुखी हैं और सहायक पुलिसकर्मियों के साथ हैं.

बड़कागांव विधायक अंबा प्रसाद ने कहा कि मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को उनके बारे में जानकारी नहीं थी. उनकी समस्या का समाधान करना अब सरकार की पहली प्राथमिकता है. उनका यह भी कहना है कि वे झारखंड के रहने वाले हैं और इस राज्य के हैं. ऐसे में उन्हें न्याय मिलेगा. बता दें कि रांची के मोरहाबादी मैदान में स्थायीकरण की मांग को लेकर बारह सितंबर से आंदोलन कर रहे राज्य के बारह जिले के लगभग ढाई हजार पुलिसकर्मियों पर लाठीचार्ज और आंसू गैस का प्रयोग किया गया था, जिसमें कई पुलिसकर्मी घायल भी हुए हैं. पूरे राज्य भर में इस घटना को लेकर निंदा हुई थी.
आंदोलनकारी सहायक पुलिसकर्मी 12 सितंबर को राजभवन के समीप धरना देने के लिए पहुंचे थे, लेकिन उन्हें धरना नहीं देने दिया गया. 2017 में राज्य के 12 नक्सल प्रभावित जिलों में लगभग 2 हजार 350 सहायक पुलिसकर्मियों की 10 हजार मानदेय पर नियुक्ति हुई थी. सहायक पुलिसकर्मियों का कहना है कि नियुक्ति के समय बताया गया था कि 3 साल बाद उनकी सेवा स्थाई हो जाएगी, लेकिन 3 साल पूरा होने के बाद भी उनका स्थायीकरण नहीं हुआ. ऐसे में उनलोगों ने आंदोलन में जाने की रणनीति बनाई थी.