झारखण्ड वाणी

सच सोच और समाधान

सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट एक कानूनी मुद्दा नहीं बल्कि एक ‘सनकी निरंकुश’ की गलत प्राथमिकताओं का मामला है-डॉ अजय 

सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट एक कानूनी मुद्दा नहीं बल्कि एक ‘सनकी निरंकुश’ की गलत प्राथमिकताओं का मामला है-डॉ अजय 

सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट की काफी आलोचना हुई और विपक्ष ने हमेशा इसके विरुद्ध आवाज उठायी है। कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता और जमशेदपुर के पूर्व आईपीएस और पूर्व सांसद डॉ अजय कुमार भी महामारी के संकट पर सेंट्रल विस्टा को प्राथमिकता दिए जाने के इस विरोध में आगे रहे हैं।
डॉ अजय ने आज कहा कि सेंट्रल विस्टा की लगभग 20000 करोड़ की लागत में सरकार,  4000 स्कूल या 1000 अस्पताल या 100 करोड़ वैक्सीन या 13 लाख पीएम आवास या 2 लाख वेंटिलेटर बनाने का विकल्प चुन सकती थी। लेकिन सरकार कभी भी इस महामारी के प्रति गंभीर नहीं रही जिसके कारण हमने अपने कई भाई-बहनों को खो दिया।
डॉ अजय ने आगे कहा, यह आश्चर्य की बात है कि 7 रेस कोर्स रोड, जिसमें प्रधानमंत्री के लिए 7 बंगले, 12 एकड़ से अधिक भूमि में सुंदर पेड़ों से घिरा ,एसपीजी बलों द्वारा संरक्षित है, लेकिन यह मोदी जी के लिए काफी नहीं।
डॉ अजय ने आगे कहा, “सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट एक कानूनी मुद्दा नहीं है, बल्कि एक ‘सनकी निरंकुश’ की गलत प्राथमिकताओं का मामला है, जो सीमेंट और मोर्टार के साथ इतिहास में अपना नाम दर्ज करना चाहता है।