झारखण्ड वाणी

सच सोच और समाधान

सांसद निशिकांत दुबे के आरोप पर सीएम हेमंत का बयान, कहा- अगले 48 घंटे में कानूनी रूप से देंगे जवाब

कुणाल सारंगी

रांची: सीएम हेमंत सोरेन ने बीजेपी सांसद निशिकांत दुबे पर हमला किया है. मुख्यमंत्री ने ट्विटर पर लिखा है कि वह अब देश और राज्यवासियों को अपने आचरण के अनुरूप गुमराह करना बंद करें.

रांची: प्रदेश के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने बीजेपी सांसद निशिकांत दुबे को आड़े हाथों लेते हुए साफ तौर पर कहा कि वह अब देश और राज्यवासियों को अपने आचरण के अनुरूप गुमराह करना बंद करें. अपने ट्विटर अकाउंट से ट्वीट करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि माननीय सांसद के कुकर्म की परत खुलकर जनता के सामने आ रही है. सीएम ने ट्विटर में साफ तौर पर लिखा है कि कभी एक असहाय व्यक्ति को अपने पैर की धोवन पिलाने से गुरेज न करने वाले सांसद दूसरों पर अनर्गल आरोप लगा रहे हैं.
मुख्यमंत्री ने लिखा है कि खुद को इतना विद्वान और ज्ञानी समझने वाले सांसद की डिग्री फर्जी कैसे. इसके साथ ही उन्होंने दिल्ली यूनिवर्सिटी के फैकल्टी ऑफ मैनेजमेंट स्टडीज के डीएन की एक चिट्ठी का भी हवाला दिया है. चिट्ठी में फैकेल्टी ऑफ मैनेजमेंट स्टडीज में निशिकांत दुबे नाम के कैंडिडेट् 1993 में न तो एडमिट किया और न ही पास कर वहां से निकला है. इसके साथ ही डीन ने लिखा है कि इस बाबत 2016 में भी एक आरटीआई का जवाब डिपार्टमेंट ने पहले दिया है. उन्होंने साफ तौर पर कहा की फैकल्टी के ऑफिस के रिकॉर्ड के आधार पर दी जा रही है
दरअसल, कुछ हफ्ते पहले बीजेपी सांसद ने कोलकाता में बन रही एक बड़ी बिल्डिंग में जेएमएम के बड़े नेताओं के कथित निवेश का आरोप लगाया था. वहीं, मंगलवार को गोड्डा सांसद ने मुख्यमंत्री सोरेन के खिलाफ 2013 में महाराष्ट्र में दायर एक केस का हवाला देते हुए वहां के गृहमंत्री से उसके रिओपन करने की मांग की थी. 2013 में मुंबई में मौजूदा मुख्यमंत्री, जो उस वक्त भी राज्य के सीएम थे उनके खिलाफ एक मामला दर्ज किया गया था. हालांकि, कुछ दिनों के बाद में मामला शिकायतकर्ता द्वारा वापस ले लिया गया था. उस केस को दोबारा रिओपन करने की दूबे ने मांग की थी. उस
मामले में मुख्यमंत्री ने मंगलवार की देर शाम ट्वीट में साफ कहा कि सांसद द्वारा उनके ऊपर जो आरोप लगाए गए हैं उसका जवाब वह अगले 48 घंटे में कानूनी रूप से देंगे.