झारखण्ड वाणी

सच सोच और समाधान

साइबर क्राइम की जद में कोरोना वैक्सीनः अपराधी फर्जी को-विन ऐप से कर रहे ठगी

साइबर क्राइम की जद में कोरोना वैक्सीनः अपराधी फर्जी को-विन ऐप से कर रहे ठगी

कोरोना वैक्सीन भी साइबर अपराधियों की जद में है. अपराधी अब तो-विन नाम का फर्जी ऐप बनाकर लोगों के साथ ठगी कर रहे हैं. इसको लेकर जिला पुलिस लोगों को लगातार जागरूक कर रही है.

सरायकेला: जिला पुलिस और साइबर सेल ने कोरोना वैक्सीन के नाम पर साइबर ठगों की ओर से फर्जीवाड़ा रोकने के उद्देश्य से जागरूकता अभियान चला रही है. साइबर अपराधियों पर नकेल कसने के उद्देश्य से जिला पुलिस सोशल मीडिया से लेकर पोस्टर और बैनर के माध्यम से लोगों में जागरूकता फैला रही है.
जिला पुलिस की ओर से संबंधित थाना क्षेत्र के प्रमुख स्थानों पर जागरूकता पोस्टर लगाए गए हैं, जिसके माध्यम से बताया गया है कि कोविड-19 वैक्सीन उपलब्ध कराने के नाम पर साइबर अपराधियों की ओर से ठगी कर आम लोगों से ऑनलाइन फ्रॉड किया जा सकता है. इस संबंध में सरायकेला एसपी ने बताया कि जागरूकता अभियान का मुख्य उद्देश्य कोविड-19 के वैक्सीन उपलब्ध कराने के नाम पर साइबर ठगों की ओर से लोगों को फोन कर यह मैसेज भेज खुद को स्वास्थ्य विभाग का कर्मचारी बताकर प्राथमिकता के आधार पर कोविड-19 वैक्सीन देने का विश्वास दिला उनके गोपनीय दस्तावेज आधार कार्ड बैंक खाता विवरण प्राप्त कर ऑनलाइन फ्रॉड किया जा सकता है. कई स्थानों पर साइबर अपराधियों ने फर्जी पोर्टल बनाकर कोविड-19 वैक्सीन होम डिलीवरी का भी दावा किया है.
जिला पुलिस सभी प्रकार के सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म डिजिटल एडवरटाइजमेंट के माध्यम से लोगों में जागरूकता फैला रही है. जिससे लोग कोरोना वैक्सीन से संबंधित किसी भी अवांछनीय मैसेज फोन कॉल या मोबाईल लिंक के प्रयोग से बचे.