झारखण्ड वाणी

सच सोच और समाधान

पुंज कंपनी की जमीन पर कारोबारी के सहयोग से आलीशान फ्लैट बनाना चाहते हैं विधायक एवं उनके भतीजे: रामबाबू तिवारी

जमशेदपुर पूर्वी विधायक सरयु राय पर भाजपा के पूर्व जिलाध्यक्ष रामबाबू तिवारी ने बोला हमला।

जमशेदपुर :जमशेदपुर पूर्वी विधानसभा अंतर्गत बर्मामाइंस के रघुवर नगर में भाजमो कार्यकर्ता द्वारा किये गए उपद्रव समेत पिछले एक वर्षों से जमशेदपुर में हो रहे उपद्रव पर भाजपा के पूर्व जिलाध्यक्ष रामबाबू तिवारी ने प्रेस को सम्बोधित किया। शनिवार को भाजपा जिला कार्यालय में आयोजित प्रेस वार्ता को संबोधित करते हुए पूर्व जिलाध्यक्ष रामबाबू तिवारी ने कहा जमशेदपुर पूर्वी के शांतिप्रिय जनता महज चंद महीनों में विधायक सरयु राय की झूठ फरेब एवं छल प्रपंच की राजनीति से ऊब गयी है। विधायक को यह बात समझ में आ गयी है कि उनकी चाल, चरित्र एवं चेहरे को क्षेत्र की जनता अब भलीभांति पहचान चुकी है। इसी बौखलाहट का परिणाम है कि उनके चहेते समर्थक एवं असामाजिक तत्व आतंक का नंगा नाच कर रहे हैं। जगह-जगह उन शिलापट्ट को क्षतिग्रस्त कर रहे हैं, जिन पर तत्कालीन मुख्यमंत्री रघुवर दास का नाम अंकित है। कहा कि भूमि माफिया को संरक्षण प्रदान करना असामाजिक तत्वों के बल पर क्षेत्र में आतंक का माहौल बनाना विधायक सरयु राय की आदत में शुमार है। जमशेदपुर पश्चिमी के विधायक रहने के दौरान उन्होंने वहां भूमि माफियाओं को संरक्षण दिया था और आतंक का नंगा नाच करवाया था। इसी कहानी को जमशेदपुर पूर्वी में भी इन्होंने दोहराने की कोशिश की। यह बात सबसे पहले बिरसानगर में तब उजागर हुई। यहां के भाजपा कार्यकर्ता एवं अधिवक्ता प्रकाश यादव की हत्या इनके चहेते मंडल अध्यक्ष एवं भूमि माफिया अमूल्यो कर्मकार के संरक्षण में हुई थी। प्रकाश यादव की हत्या अमूल्यो द्वारा भूमि का कारोबार में व्यवधान पैदा करने के कारण की गयी थी इस मामले में अमूल्यो आज भी जेल में है।

उन्होंने कहा कि इसके पहले भी जमशेदपुर पश्चिम के मानगो के भूमि माफिया गणेश सिंह इसी तरह मंगल कॉलोनी एवं दाईगुटू में कई जगह जमीन को घेर कर रखा है। गणेश सिंह तड़ीपार होने के बावजूद विधायक के साथ सार्वजनिक कार्यक्रमों में शामिल होते है। पिछले दिनों विधायक चेन्नई की यात्रा में तड़ीपार गणेश सिंह को साथ लेकर गये थे। यह इनका राजनीतिक संरक्षण नहीं तो क्या है? पूंज आयरन कंपनी जिसे टाटा स्टील द्वारा लीज पर दिया गया था वर्षों बंद रहने के उपरांत आज अतिक्रमण कर काला खेल खेला जा रहा है। विधायक के भतीजे एवं युगांतर भारती के कोषाध्यक्ष के भाई एवं शहर के उद्योगपति ने उस जमीन के भूखंड को कैसे खरीद लिया एवं उस पर बाउंड्री का निर्माण कर लिया। रघुवर नगर के बगल में स्थित इस भूखंड पर फ्लैट बनाने की योजना थी। इस मामले को अभय सिंह द्वारा जोरदार ढंग से उठाया गया था। पूंज आयरन कंपनी को यह जमीन टाटा स्टील ने सवलीज पर दी थी। जब कंपनी बंद हो गयी तो यह जमीन कंपनी को वापस कर देना चाहिए था। इसका उदाहरण ह्यूम पाइप कंपनी, जो टाटा कंपनी की लीज पर थीं। उसे वापस कंपनी को देकर आज उस स्थान पर जमशेदपुर का नया कोर्ट बन गया है। इसी प्रकार कांट्रैक्टर्स एरिया में पूंज आयरन कंपनी को कार्यालय के लिए आवंटित जमीन पर युगांतर भारती के कोषाध्यक्ष एवं उनके भाई द्वारा बहुमंजिला फ्लैट का निर्माण करा दिया गया, जो अब ए.एस.एल. टॉवर के नाम से जाना जाता है। यह संरक्षण नहीं है तो क्या है? चुनाव जीतने के उपरांत 20 मार्च 2020 को झारखंड विधानसभा के पहले सत्र में सोनारी स्थित एक 5.28 एकड़ के भूखंड के लिए किसी व्यक्ति विशेष को न्याय दिलाने की गुहार विधायक के द्वारा की जाती है। इस मामले को अभय सिंह ने प्रमुखता से उठाया था उस व्यक्ति का नाम आज तक विधायक ने उजागर क्यों नहीं किया। उस भूखंड की कीमत वर्तमान में पांच सौ करोड़ से भी अधिक है। विधायक को उस व्यक्ति विशेष का नाम सार्वजनिक करना चाहिए या नहीं करना चाहिए? यह भू-माफिया को संरक्षण नहीं तो क्या है ? संचों के नामकुम थाना के चटकपुर में पार्वती देवी के 84 डिसमिल जमीन पर विधायक की संस्था युगांतर भारती द्वारा कब्जा कर रखा गया है। पीड़िता के द्वारा कई बार न्याय की गुहार लगायी गयी। यहा तक कि महिला आयोग से भी इसकी शिकायत की गयी। पार्वती देवी के द्वारा 2019 का खतियान तक अपने नाम पर कटा हुआ है परंतु विधायक के द्वारा जबरन कब्जा आज भी कायम है। यह माफिया को संरक्षण नहीं तो क्या है? आपको बता दूं कि उषा मार्टिन कंपनी के यूनियन के अध्यक्ष रहते हुए विधायक के संरक्षण में करोड़ों को अवैध माइनिंग इनके द्वारा करायी गयी। पद का फायदा लेकर अपने भतीजे की पत्नी के भाई को उषा मार्टिन में स्थायी नौकरी दिलाई गयी। कंपनी में हो रहे अवैध खनन पर कभी भी इन्होंने आवाज उठाना उचित नहीं समझा। जबकि माइनिंग के हर मामले को बड़े जोर शोर से विधायक उठाते रहे हैं, इस मामले पर आज तक खामोश क्यों बैठे हैं?

पिछले कई महीनों से बर्मामाइंस एवं पूर्वी विधानसभा क्षेत्र में इनके लोगों द्वारा पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास के विकास कार्यों के विभिन्न स्थानों पर लगे- जैसे- कंचननगर, लक्ष्मीनगर मैदान, जेम्को, डनलप मैदान के पास, बीपीएम स्कूल मैदान में लगे शिलापट्ट को तोड़ा गया। इसकी जानकारी प्रशासन को लिखित तौर पर दी गयी है, परंतु जब प्रशासन द्वारा कोई कार्रवाई नहीं करने के कारण भारतीय जनता मोर्चा के संरक्षण में असमाजिक तत्वों का मनोबल बढ़ता गया, जिसका परिणाम है कि प्रशासन को ठेंगा दिखाते हुए रघुवर नगर में लगे सरकारी शिलापट्ट पर खुलेआम विडियो वायरल कर कालिख पोतने एवं तोडने का का काम किया गया।

उनकी पार्टी के जिलाध्यक्ष सुबोध श्रीवास्तव के द्वारा लाइन नंबर 24, ए ब्लॉक, टुइलाडुंगरी (हिन्दुस्तानी संघ स्कूल के पास), गोलमुरी में जबरन घर को कब्जा कर लिया जाता है और उस मकान का मालिक दूसरी जगह किराये के मकान में रहने को विवश है।

उनके पार्टी के गोलमुरी के प्रतिनिधि असीम पाठक, जो पिछले दिनों नामदा बस्ती, नानकनगर में जबरन एक अबला महिला के जमीन और घर को घेरने के लिए उनके घर में घुसकर महिला से हाथापाई की एवं उनके सामान को जबरन फेंका।

पिछले दिनों जिस असामाजिक तत्व अमित शर्मा के द्वारा रघुवर नगर में शिलापट्ट एवं बोर्ड पर कालिख पोतने का काम किया जाता है, वह व्यक्ति महानंद बस्ती में घुसकर एक जमीन को घेरने की मंशा से वहां गया था। परंतु वहां के बस्तीवासियों द्वारा उन्हें भगाया जाता है। इन सभी घटनाओं का साक्ष्य जनता के सामने है और आपलोगों ने भी उस विडियो को देखा है।

अंत में विधायक से आप सभी के माध्यम से यह पूछना चाहूंगा कि वर्ष 2005 के विधानसभा चुनाव लड़ते समय प्रत्याशी के रूप में जो हलफनामा दाखिल किया गया था उसमें उन्होंने अपनी कुल संपति का ब्यौरा 30 लाख 30 हजार 995 रुपये दर्शाया था, ठीक उसी प्रकार वर्ष 2019 के विधान सभा चुनाव में उन्होंने अपने नामांकन के दौरान शपथ पत्र में कुल 3 करोड़ 58 लाख एक हजार 9 सौ 47 रुपये दर्शाया है। उसके अलावा पिछले पांच वर्षों में उन्होंने औसतन वार्षिक आय लगभग 24 लाख आयकर रिटर्न के रूप में दर्ज करायी है। ना कोई कारोबार, ना कोई अतिरिक्त नौकरी पेशा, तो फिर विधायक की आय पिछले 15 वर्षों में 30 लाख से साढ़े तीन करोड़ तक कैसे पहुंच गयी। विधायक को इसको जानकारी भी सार्वजनिक करनी चाहिए। उन्होंने आशंका जताई कि विधायक सरयु राय की कार्यशैली पर सवाल उठाने पर उनकी जान को लेकर भी खतरा है। जिसपर उन्होंने जिला प्रशासन को अवगत करा दिया है।

प्रेस-वार्ता के दौरान भाजपा जिला महामंत्री राकेश सिंह, मीडिया प्रभारी प्रेम झा, बर्मामाइंस मंडल अध्यक्ष दीपक झा उपस्थित थे।