झारखण्ड वाणी

सच सोच और समाधान

पूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी के निधन पर शोक संवेदना

महामहिम पूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी के निधन का समाचार सुनकर अत्यंत दुख हुआ है। उन्होंने अपने दायित्वों का निर्वाहन बहुत ही सराहनीय एवं ईमानदारी के साथ किया। ईश्वर से प्रार्थना है कि उनकी आत्मा को शांति प्रदान करे एवं इस दुःख की घड़ी में शोक संतप्त परिवार को भी धैर्य धारण करने का साहस दें। ओम शांति।

कुणाल षाड़ंगी, पूर्व विधायक सह प्रदेश प्रवक्ता

पूर्व राष्ट्रपति, भारत रत्न श्री प्रणव मुखर्जी जी का निधन अपूर्णीय क्षति है। जीवन के हर पड़ाव और हर भूमिका में उन्होंने राजनीतिक और सामाजिक क्षेत्र के हर वर्ग की सेवा करने के साथ ही आर्थिक क्षेत्र में भी अहम योगदान दिया। ईश्वर दिवंगत आत्मा को अपने श्रीचरणों में स्थान दें।

दिनेश कुमार, पूर्व जिलाध्यक्ष, भाजपा।

भारतीय राजनीति में संघर्ष और अंतिम पंक्ति से प्रथम पंक्ति तक पहुँचने का अनुभव प्रणव मुखर्जी जी के जीवन से सीखा जा सकता है। वे अनुभवी, कुशल और दूरदर्शी राजनीतिज्ञ के अलावा विद्वान, संवेदनशील एवं जनप्रिय नेता थे। उनका देहावसान एक युग की समाप्ति है। उनको विनम्र श्रद्धांजलि।
पूर्व जिला प्रवक्ता अंकित आनंद