झारखण्ड वाणी

सच सोच और समाधान

पहली बारिश में ध्वस्त हुआ पचपन लाख का चेक डैम

कुणाल सारंगी

देवघर में पचपन लाख का बना चेक डैम पानी के दबाव के कारण टूट गया. यह डैम पानी के दबाव को तीन महीने तक भी नहीं झेल सका. 1.67 करोड़ की लागत से बने लघु सिंचाई के लिए तीन चेक डैम में से एक भरभरा कर ध्वस्त हो गया.

देवघर: जिले के कैरो प्रखंड अंतर्गत फागो स्थित जोरिया पर तीन महीने पहले ही एक करोड़ 67 लाख की लागत से तीन चेक डैम का निर्माण किया गया था. भारी बारिश के कारण यह डैम टूट गया. इन डैम पर औसतन 55.66 लाख की रकम खर्च की गई थी, लेकिन एक बारिश ने निर्माण कार्य की गुणवत्ता, काम में धांधली और विकास के नाम पर हुई पैसों की लूट की परत दर परत पोल खोलकर रख दी.
बता दें कि, जिस इलाके से यह तस्वीर सामने आई है वहां की नुमाइंदगी सूबे के मंत्री हाजी हुसैन अंसारी करते हैं. इस कार्य के पत्रांक संख्या 162 के जरिए 15 फरवरी 2020 को ही टेंडर जारी किया गया था. ग्रामीणों का आरोप है कि ठेकेदार और लघु सिंचाई विभाग की मिली भगत से निर्माणकार्य में भारी अनियमितता बरती गई. जिसका परिणाम सामने है. जब एक छोटे से जगह का चेक डैम ताश के पत्तों की तरह भरभरा कर ध्वस्त हो सकता है तो सूबे में हो रहे बड़े निर्माण की गुणवत्ता का अंदाजा आप खुद लगा सकते हैं.
वहीं, दूसरी तरफ जिम्मेदार महकमे के अधिकारी अब अपनी जवाबदेही से पल्ला झाड़ रहे हैं. उनका कहना है कि बारिश के पानी का बहाव रोकने के लिए ग्रामीणों ने मिट्टी काट कर पानी के बहाव का रास्ता बदल दिया था. जिसकी वजह से चेक डैम टूट गया. वजह जो भी हो लेकिन इस तस्वीर ने सरकारी कार्यों में मची धांधली, लूट और भ्रष्टाचार की पोल खोलकर रख दी है.