झारखण्ड वाणी

सच सोच और समाधान

निजी लोगों को मिलने वाले बॉडीगार्डस का तैयार हो रहा है डाटा बकाया पैसे को लेकर दिया जाएगा नोटिस

निजी लोगों को मिलने वाले बॉडीगार्डस का तैयार हो रहा है डाटा बकाया पैसे को लेकर दिया जाएगा नोटिस

झारखंड में ऐसे लोगों की लंबी फेहरिस्त है जो सरकारी बॉडीगार्ड लेते हैं लेकिन उसकी एवज में सरकारी खजाने में पैसा जमा नहीं करते हैं पैसे नहीं जमा करने वाले लोगों की लिस्ट विशेष शाखा तैयार कर रही है.

रांचीः झारखंड में किन लोगों को बॉडीगार्ड्स मिले हैं क्या उनमें कोई दागी भी है या फिर जिन लोगों को पेड बॉडीगार्ड मिले हैं, वह समय पर पैसा जमा कर रहे हैं या नहीं. इसकी जानकारी स्पेशल ब्रांच के जरिए जुटायी जा रही है. स्पेशल ब्रांच ने इस संबंध में सभी जिलों से रिपोर्ट मांगी है. हाल ही में झारखंड हाई कोर्ट ने भी बॉडीगार्ड के मसले पर पुलिस से रिपोर्ट मांगी थी साथ ही पूछा भी था कि किन-किन लोगों को और कैसे सरकारी बॉडीगार्ड दिए जाते हैं.
दरअसल झारखंड में ऐसे लोगों की लंबी फेहरिस्त है जो सरकारी बॉडीगार्ड लेते हैं लेकिन उसकी एवज में सरकारी खजाने में पैसा जमा नहीं करते हैं. पैसे नहीं जमा करने वाले लोगों की लिस्ट भी विशेष शाखा तैयार कर रही है. पिछले साल महालेखाकार ने अपनी रिपोर्ट में भी यह जिक्र किया था कि सरकारी बॉडीगार्ड की एवज में लाखों का भुगतान लंबित है. करोड़ों रुपये कई व्यवसायी, बिल्डर और नेताओं से वसूले जाने बाकी हैं
इस संबंध में स्पेशल ब्रांच ने राज्य के सभी जिलों के पुलिस अधीक्षकों से बॉडीगार्ड्स के बारे में रिपोर्ट मांगी गई है. स्पेशल ब्रांच ने पूछा है कि किन-किन लोगों को बॉडीगार्ड दिए गए हैं, किन लोगों के पास किस-किस की प्रतिनियुक्ति बॉडीगार्ड के रूप में है, साथ ही बॉडीगार्ड के एवज में कितनों के पास कितने रुपये का बकाया है. बकाया पैसे की वसूली के लिए कब नोटिस दिया गया. किस किस ने कितने रुपए जमा कराये. जिलों के एसपी से बॉडीगार्ड संबंध में स्पेशल ब्रांच ने उनका अपना मंतव्य भी मांगा है.