झारखण्ड वाणी

सच सोच और समाधान

नहीं बनी डीआईजी और एसएसपी की सहायक पुलिसकर्मियों से बात, दो घंटे की माथापच्ची के बाद वार्ता विफल

झारखंड में स्थायी नियुक्ति की मांग को लेकर आंदोलन कर रहे 2,000 सहायक पुलिसकर्मियों के प्रतिनिधिमंडल का रांची के एसएसपी और रांची जोन के डीआईजी से दो घंटे तक वार्ता विफल रही. हालांकि वार्ता में शामिल डीआईजी ने कहा कि उनकी मांगों को वरीय अधिकारियों तक पहुंचा दी जाएगी, लेकिन सहायक पुलिसकर्मी अपनी मांगों पर अड़े रहे.

रांचीः झारखंड में स्थायी नियुक्ति की मांग को लेकर आंदोलन कर रहे 2,000 सहायक पुलिसकर्मियों का आंदोलन दिन पर दिन गति पकड़ता जा रहा है. विभिन्न जिलों से पैदल चलकर रांची के ऐतिहासिक मोरहाबादी मैदान पहुंचे जुटे आंदोलनकारियों ने शनिवार को आंदोलन की आगे की रणनीति बनाई. उनका कहना है कि हम अपने वाजिब हक के लिए आरपार की लड़ाई लड़ेंगे. सहायक पुलिसकर्मियों ने अपनी मांगों को लेकर पहले सीएम से मिलने की बात कही. उसके बाद वरीय अधिकारियों में रांची के एसएसपी और रांची जोन के डीआईजी ने सहायक कर्मियों से दो घंटे तक रांची के ऑफिस में वार्ता की, लेकिन घंटों बीत जाने के बाद किसी बात पर सहमति नहीं हुई और वार्ता विफल हो गई. हालांकि वार्ता में शामिल डीआईजी ने कहा कि उनकी मांगों को वरीय अधिकारियों तक पहुंचा दी जाएगी, लेकिन सहायक पुलिसकर्मी अपनी मांगों पर अड़े रहे. वार्ता के बाद सहायक पुलिसकर्मियों का एक दल मोरहाबादी पहुंचा जहां बारह जिलों से आए सहायक पुलिसकर्मियों को इस बारे में जानकारी दी गयी की वार्ता में बात नहीं बनी. यह सुनकर सहायक पुलिसकर्मी मोरहाबादी में ही धरने पर बैठ गए. उनका कहना है कि जब तक उनकी मांगों पर सहमति नहीं दी जाती है, तब तक वे लोग मोरहाबादी में ही जुटे रहेंगे.