झारखण्ड वाणी

सच सोच और समाधान

नई शिक्षा नीति पर बीजेपी ने की वर्चुअल मीटिंग, कहा देश को नई दिशा मिलेगी

रांची में भाजपा ने राष्ट्रीय शिक्षा नीति मिलेकर राज्यस्तरीय पदाधिकारियों के साथ बैठक की. प्रदेश महामंत्री प्रदीप वर्मा ने कहा कि मौजूदा जरूरत के हिसाब से इस शिक्षा की आवश्यकता थी.

रांचीः प्रदेश की प्रमुख विपक्षी पार्टी भाजपा ने शनिवार को राष्ट्रीय शिक्षा नीति पर पार्टी के राज्यस्तरीय पदाधिकारियों के साथ कार्यशाला आयोजित की. बैठक में पार्टी के प्रदेशस्तरीय समेत जिलाध्यक्ष वर्चुअल रूप से जुड़े रहे. बैठक में पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष दीपक प्रकाश और प्रदेश संगठन महामंत्री धर्मपाल सिंह मौजूद रहे.
इस बाबत पार्टी के प्रदेश महामंत्री प्रदीप वर्मा ने कहा कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति पर आयोजित इस कार्यशाला का उदघाटन सत्र में प्रदेश अध्यक्ष, प्रदेश संगठन महामंत्री समेत बीजेपी विधायक दल के नेता बाबूलाल मरांडी का संबोधन हुआ.
उन्होंने बताया कि वर्तमान शिक्षा नीति में इस देश को किस चीज की जरूरत है उसके बारे में पार्टी नेताओं द्वारा बताया गया. वर्मा ने कहा कि 34 वर्ष पुरानी शिक्षा नीति आउटडेटेड हो गई थी. मौजूदा जरूरत के हिसाब से और छात्र-छात्राओं की जरूरत के अनुसार इस शिक्षा की आवश्यकता थी.
उन्होंने कहा कि नई शिक्षा नीति के सभी तत्व पर पार्टी के सभी पदाधिकारियों को और जिलाध्यक्षों को बताया गया. दरअसल बीजेपी द्वारा आयोजित इस कार्यशाला इस मायने में महत्वपूर्ण मानी जा रही है कि पिछले दिनों प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ हुई वीडियो कांफ्रेंसिंग के दौरान मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने नई शिक्षा नीति पर सवाल खड़े किए थे.
साथ ही उन्होंने कहा था कि नई शिक्षा नीति आदिवासियों के हित में नहीं होगी. ऐसे में शनिवार को हुई इस कार्यशाला में बीजेपी ने अपने प्रदेश पदाधिकारियों और जिलाध्यक्षों को सरकार के इस रवैये के खिलाफ भी कथित रूप से कमर कसने का इशारा किया है.
साथ ही वर्चुअल रूप से जुड़े सभी सांगठनिक पदाधिकारियों को केंद्र सरकार की योजनाओं के प्रमुख बिंदुओं को लेकर लोगों के बीच जाने का भी निर्देश दिया गया है.