झारखण्ड वाणी

सच सोच और समाधान

नाशपाती बागवानी योजना का मंत्री रामेश्वर उरांव ने किया शुभारंभ लोगों को मिलेगा रोजगार

नाशपाती बागवानी योजना का मंत्री रामेश्वर उरांव ने किया शुभारंभ लोगों को मिलेगा रोजगार

लोहरदगा के सुदूरवर्ती नक्सल प्रभावित क्षेत्र में 200 एकड़ में नाशपाती बागवानी की योजना का शुभारंभ किया गया. इस योजना के तहत लोगों को रोजगार मिल सकेगा.
लोहरदगा: जिले के सुदूरवर्ती नक्सल प्रभावित क्षेत्र पेशरार प्रखंड के पुंदाग में 200 एकड़ में नाशपाती की बागवानी को लेकर योजना का शुभारंभ किया गया है. झारखंड सरकार के वित्त और खाद्य आपूर्ति मंत्री डॉ. रामेश्वर उरांव और राज्यसभा सांसद धीरज प्रसाद साहू ने योजना का शुभारंभ किया है. इस योजना के बाद क्षेत्र में पलायन की समस्या काफी हद तक कम हो सकेगी. लोगों को बागवानी के माध्यम से रोजगार मिल सकेगा
पेशरार प्रखंड के पुंदाग में बिरसा हरित ग्राम योजना के तहत नाशपाती की बागवानी योजना का शुभारंभ करने के साथ-साथ कृषि मेला और गोष्ठी का भी आयोजन किया गया. झारखंड सरकार के मंत्री डॉ. रामेश्वर उरांव और राज्यसभा सांसद धीरज प्रसाद साहू ने नाशपाती का पौधा लगाकर बागवानी योजना का शुभारंभ किया. इसके बाद कृषि मेला में किसानों के बीच 90 प्रतिशत अनुदान पर पंप सेट का वितरण किया गया. जनता दरबार के माध्यम से ग्रामीणों की समस्याएं सुनी गई. ग्रामीणों ने सड़क, पेंशन, बिजली, पेयजल आदि समस्याओं से मंत्री और सांसद को अवगत कराया.

कार्यक्रम के दौरान मंत्री और सांसद ने जनता से सीधा संवाद किया. मंत्री ने कहा कि आवागमन की सुविधा को बेहतर बनाने के लिए इस क्षेत्र में तीन नदियों में पुल बनाने का काम करेंगे. इसके साथ ही सिंचाई की व्यवस्था भी की जाएगी. सरकार ने मनरेगा के तहत मजदूरी भी बढ़ा दिया है. हर आदमी के लिए भोजन की व्यवस्था की गई है. राज्यसभा सांसद ने कहा कि नाशपाती की बागवानी से क्षेत्र के दिन बहुरेंगे. यहां पर लोगों को रोजगार मिल पाएगा. जिससे क्षेत्र का समुचित विकास होगा.
नाशपाती की बागवानी का शुभारंभ झारखंड सरकार के मंत्री डॉ. रामेश्वर उरांव और राज्यसभा सांसद धीरज प्रसाद साहू ने किया. दोनों ही प्रतिनिधियों ने जनता से क्षेत्र के विकास को लेकर अपनी प्रतिबद्धता दोहराई. इसके साथ ही क्षेत्र में पलायन की समस्या को कम करने को लेकर स्वरोजगार के माध्यम से आगे बढ़ने की बात कही. इस दौरान किसानों के बीच परिसंपत्ति का वितरण भी किया गया.