झारखण्ड वाणी

सच सोच और समाधान

मिथिलाक्षर साक्षरता अभियान के तत्वावधान में चला देशव्यापी ट्विटर मेगा ट्रेंड

कुणाल सारंगी

जमशेदपुर इकाई ने अपना दम-खम दिखाया, शहर से करीब 10 हजार ट्वीट

जमशेदपुर: मैथिल पुनर्जागरण प्रकाश के उपक्रम मिथिलाक्षर साक्षरता अभियान ने देशव्यापी ट्विटर मेगा ट्रेंड #MaithiliInManifesto (मैथिली इन मेनिफेस्टो) का सफलतापूर्वक आयोजन किया। 
बिहार विधानसभा चुनाव नजदीक है और मिथिला क्षेत्र अपने राजनीतिक प्रतिनिधित्व को लेकर सदैव सशंकित रहता है। मिथिला क्षेत्र में बेरोजगारी, पलायन, बाढ़, सूखा आदि के अतिरिक्त कोई सुखद समाचार सुनने को नही मिलता है। आलम यह है कि मैथिली को बिहार में द्वितीय राजभाषा में शामिल करने का मौका नही दिया गया है। मैथिली, मिथिला को समुचित स्थान दिलाने के लिए और प्रारंभिक कक्षा से ही मिथिलाक्षर की पढ़ाई सुनिश्चित करने के लिए इस ट्रेंड के माध्यम से बिहार के समस्त राजनीतिक दलों को एहसास दिलाया गया है कि अब मैथिली को चुनावी घोषणापत्र में शामिल करने का समय आ गया है। अगर क्षेत्र में प्रतिनिधित्व चाहिए तो दलों को ध्यान देना होगा।
जमशेदपुर इकाई के अभियानी भी इस कार्यक्रम का हिस्सा बने और सामाजिक दूरी का पालन करते हुए एकत्रित हुए बिना आपसी सहयोग से बढ़ चढ़ कर हिस्सा लिया। समस्त सक्रिय स्थानीय अभियानियों के सहयोग से शहर से करीब 10 हजार ट्वीट का समर्थन दिया गया। जबकि देशभर से करीब 1 लाख 20 हजार ट्वीट्स मिले। शहर के मैथिल जनों ने अपनी मातृभाषा को सम्मान दिलाने के लिए बिहार का वोटर न होते हुए भी पूर्ण समर्थन दिया और साथ ही झारखण्ड राज्य को नमन किया क्योंकि यहां मैथिली दूसरी राज्य भाषा है।
शुरुआती समय से ही ट्वीट ट्रेंडिंग में रहे और देर शाम तक ट्रेंडिंग में बने रहे। देश मे उच्चतम पायदान #5 रहा और काफी समय तक #12 पर ट्रेंड करता रहा। बिहार प्रदेश में #1 बना रहा और रात तक शुरुआती 3 तक ही टिका रहा।
इस मेगा-ट्रेंड में अभियान के स्थानीय संरक्षक विक्रम आदित्य सिंह, पंकज कुमार राय, राघव मिश्र, वरिष्ठ संरक्षिका श्रीमती उमा झा, श्रीमती गायत्री झा आदि का मुख्य योगदान रहा।।