झारखण्ड वाणी

सच सोच और समाधान

लोगों की भावुक अपील छठ महापर्व तक रहने दे पुराने किऊल रेल पुल का रास्ता नही तो होगी भारी दिक्कत

कुणाल सारंगी

लखीसराय| अजय कुमार : किऊल के बीच एकमात्र पैदल चलने का रास्ता रेलवे पुल ही है जिसे अब रेलवे ने हटाना शुरू कर दिया है पुराने पुल पर आगमन बंद कर दिया गया है और अब यह पुल नीलाम कर दी जाएगी।जिससे लोगों को भारी मुश्किलों का सामना करना पड़ेगा।
नये पुल पर कम चौड़ा रास्ता के कारण एक तरफ से एक ही लोग आ जा सकते हैं जिससे लोगों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ेगा और अब पर्व त्योहारों का सीजन शुरू हो गया है छठ पूजा दुर्गा पूजा दिवाली तीज धनतेरस सब आ रहे हैं जिससे बाजारों में अधिक खरीदारी करने के लिए लोगों की भीड़ बढ़ेगी एवं नये रेलवे पुल पर अधिक दबाव रहेगा।जिससे क्षेत्र की जनता की अपील है कि पुराने पुल का रास्ता कम से कम छठ महापर्व तक रहने दिया जाए जिससे लोगों को कम परेशानी का सामना करना पड़ेगा।
अब तक नए पुल पर निर्माण कार्य शुरू नहीं ।

लखीसराय स्टेशन एवं किऊल रेलवे स्टेशन को जोड़ने के लिए इस पुल की स्वीकृति 2018 में ही दी गई थी अब तक पुल पर निर्माण शुरू नहीं हुआ है।गायत्री मंदिर एवं पथला घाट के बीच किऊल नदी पर बनना था पुल। मिट्टी जांच होने के बाद निर्माण कार्य शुरू नही होने के कारण क्षेत्र के लोगों में काफी मायूसी छाई हुई है ।सरकार गहरी नींद में सोई हुई है जिला प्रशासन एवं प्रतिनिधि भी इस पुल को बनाने के लिए ध्यान नहीं दे रहे हैं।