झारखण्ड वाणी

सच सोच और समाधान

कोविड-19 को लेकर अब तक किए गए प्रशासनिक प्रयासों का किया गया मूल्यांकन, भविष्य की चुनौतियों पर हुआ विमर्श

समाहरणालय सभागार, जमशेदपुर में आज अनुमंडल पदाधिकारी धालभूम नितीश कुमार सिंह की अध्यक्षता में सभी प्रखंड विकास पदाधिकारी, अंचल अधिकारी, इंसिडेट कमांडर और प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी के साथ बैठक आहूत किया गया। बैठक में कोविड-19 संक्रमण रोकथाम के मद्देनजर प्रशासन द्वारा अब तक प्रखंड स्तर पर किए गए प्रयासों का मूल्यांकन किया गया साथ ही आने वाली चुनौतियों पर विमर्श किया गया। अनुमंडल पदाधिकारी धालभूम ने सभी का हौसला बढ़ाते हुए कहा कि हमें अपने पिछले छह  महीनों के प्रयासों की तरह ही आगे भी डटकर फ्रंटलाइन में काम करते रहना है ताकि पूर्वी सिंहभूम जिला को जल्द से जल्द कोरोना मुक्त किया जा सके। उन्होने कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग पर बल देते हुए कहा कि जितना जल्दी कंटेन्मेंट जोन को चिन्हित कर कोरोना संक्रंमितों के क्लोज कॉन्टैक्ट में आए लोगों का कोविड-19 जांच कराते रहेंगे, कोरोना वायरस के संक्रमण रोकथाम में यह उतना ही सहायक होगा। उन्होने सभी इंसिडेट कमांडर को प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी से लगातार संपर्क में रहने का निर्देश दिया जिससे कंटेन्मेंट जोन बनाने से लेकर वहां कोविड-19 जांच तक की संपूर्ण प्रक्रिया यथाशीघ्र संपादित किया जा सके।

सभी प्रखंडों में प्रतिदिन कम से कम आरएटी- 100, आरटी-पीसीआर 30 तथा ट्रूनेट से 20 जांच कराने का निर्देश दिया गया। वहीं सोमवार को स्पेशल टेस्ट ड्राइव संचालित करने का निर्णय लिया गया जिसमें 10, 000 लोगों के जांच का लक्ष्य रखा गया है। अनुमंडल पदाधिकारी धालभूम ने कहा कि 21 सितंबर को चलाए जाने वाले स्पेशल टेस्ट ड्राइव को विशेषकर उन क्षेत्रों में फोकस करें जहां कोरोना संक्रमण के ज्यादा मामले सामने आए हैं तथा कंटेन्मेंट जोन एवं कोरोना वायरस के संभाव्य प्रसार वाले स्थानों पर भी जांच अभियान चलाने का निर्देश दिया गया। बैठक में सिविल सर्जन, जिला परिवहन पदाधिकारी, अनुमंडल पदाधिकारी घाटशिला, जिला सर्विलांस पदाधिकारी, जिला यक्ष्मा पदाधिकारी, आईडीएसपी प्रभारी तथा अन्य उपस्थित थे।