झारखण्ड वाणी

सच सोच और समाधान

कोरोना काल में बढ़ी विटामिन की गोलियों की मांग, जानें इसके क्या हैं फायदे

पूरे विश्व में कोरोना संक्रमण का कहर जारी है. भारत भी इससे अछूता नहीं है. इससे बचाव के लिए भारत में वैक्सीन जल्द आने की संभावना जताई जा रही है. फिलहाल, इस संक्रमण से लड़ने के लिए डॉक्टर आम लोगों से इम्युनिटी पावर बनाए रखने के लिए विटामिन की गोलियां खाने की सलाह दे रहे हैं. ऐसे में कम बिकने वाली इन गोलियों की मांग अब ज्यादा होने लगी है.

जमशेदपुर: विश्व के कई देशों में कोरोना संक्रमण का कहर जारी है. भारत भी इससे अछूता नहीं है. इससे बचाव के लिए भारत में वैक्सीन जल्द आने की संभावना जताई जा रही है. फिलहाल, इस संक्रमण से लड़ने के लिए डॉक्टर आम जनता को अपने शरीर का इम्युनिटी पावर बनाए रखने के लिए विटामिन की गोलियां खाने की सलाह दे रहे हैं. चिकित्सक मरीज को बीमारी की दवा के साथ विटामिन सी, डी और बी खाने का परामर्श दे रहे हैं. ऐसे में कम बिकने वाली इन गोलियों की खपत ज्यादा हो रही है. कोरोना संक्रमण से बचने के लिए भारत सहित विश्व के कई देशों में वैक्सीन बनाने के लिए परीक्षण किया जा रहा है. भारत में कोरोना वैक्सीन जल्द आने की बात कही जा रही है. हालांकि, डॉक्टरों ने यह दावा किया है कि शरीर में इम्युनिटी पावर की कमी होने से कोरोना संक्रमण का असर दिखने लगेगा. ऐसे में डॉक्टर कुछ खास विटामिन की गोली का सेवन करने के लिए लोगों को सलाह दे रहे हैं. किसी भी मरीज को उसकी बीमारी की दवा के साथ विटामिन की गोली खाने के लिए प्रिस्क्राइब किया जा रहा है, जिसके कारण बाजार में दवा की दुकानों में विटामिन सी, डी और बी की मांग बढ़ गई है.
पूर्वी सिंहभूम जिला के चिकित्सा पदाधिकारी डॉ आर एन झा बताते हैं कि जब तक कोरोना वैक्सीन नहीं आ जाती है तब तक इम्युनिटी पावर बढ़ाने के लिए मरीजों को विटामिन डी, सी और बी खाने के लिए कहा जा रहा है, जिससे कोरोना संक्रमण का असर शरीर पर न पड़े. उन्होंने बताया कि ये विटामिन की गोलियां जिला में पर्याप्त हैं. आम जनता को इसका सेवन करने की जरूरत है. जमशेदपुर में दवा के थोक विक्रेता और रिटेलर इन दिनों विटामिन की गोली बड़ी तादात में रख रहे हैं, ताकि किसी ग्राहक को बिना बिना दवा के लौटना नहीं पड़े.
शहर के थोक दवा विक्रेता ने बताया कि कोरोना काल से पहले विटामिन की गोलियाों की बिक्री कम थी. महीने में मुश्किल से एक कार्टून दवा की बिक्री होती थी, लेकिन अब विटामिन की गोलियों की खपत बढ़ गई है. उनका कहना है कि ऐसा पहली बार देखने को मिल रहा है कि विटामिन की गोलियों की मांग बढ़ी है. थोक विक्रेता बताते हैं कि विटामिन सी की मांग फिलहाल ज्यादा है, लेकिन पूरी तरह यह उपलब्ध नहीं हो पा रहा है. बता दें कि जमशेदपुर में करीब 200 थोक दवा विक्रेता और करीब 800 खुदरा दवा विक्रेता हैं. कोरोना संक्रमण वालों में बुखार, सर्दी, खांसी, सांस का फूलना, गले में खीच-खीच, आंख में जलन और सर दर्द जैसे लक्षण बताए गएं हैं
ऐसे लक्षण वाले मरीजों को दवा दुकानदार बिना डॉक्टर के प्रिस्क्रिप्शन के दवा देने से इंकार कर रहे हैं. दवा के रिटेलर दुकानदार बताते हैं कि लोगों में इम्युनिटी पावर बढ़ाने के लिए विटामिन की गोलियां पहले से ज्यादा बिक रही हैं. डॉक्टर भी अपने प्रिस्क्रिप्शन में विटामिन की दवा लिख रहे है, जिनमें विटामिन डी, सी और बी शामिल है. ग्राहकों का मानना है कि इस समय इम्युनिटी पावर बढ़ाने के लिए विटामिन की दवा लेना जरूरी है. कोरोना के संक्रमण से लड़ने के लिए इन दवाओं के सेवन से लाभ मिलेगा. इधर, विटामिन की गोलियों का कालाबाजारी नहीं हो, इसके लिए ड्रग इंस्पेक्टर लगातार मॉनिटरिंग कर रहे हैं.