झारखण्ड वाणी

सच सोच और समाधान

किराए पर लेकर लूटता था कार, बिहार-पश्चिम बंगाल से 4 आरोपी गिरफ्तार

कुणाल सारंगी

गिरीडीह में पुलिस ने वाहन लुटेरा गिरोह का पर्दाफाश किया है. पुलिस ने इस मामले में चार आरोपियों को गिरफ्तार किया है. इन आरोपियों ने 10 अगस्त को ओला एप के माध्यम से हावड़ा से पटना के लिए स्विफ्ट डिजायर बुक किया था. रास्ते में ही ओला के ड्राइवर के साथ मारपीट कर गाड़ी छीन ली थी.

गिरिडीह: जिले की जमुआ थाना पुलिस ने एक ऐसे गिरोह का उदभेदन किया है जो किराया पर वाहन की बुकिंग कर बाद में वाहन को ही लूट लेते थे. इस मामले में पुलिस ने चार अपराधियों को गिरफ्तार किया है. पकड़े गए अपराधी बिहार और बंगाल के हैं. इन अपराधियों की गिरिडीह पुलिस की विशेष टीम ने बिहार के छपरा और पश्चिम बंगाल के कोलकाता से गिरफ्तार किया है. पुलिस ने पश्चिम बंगाल के हुगली के अभिषेक शर्मा और मिथलेश दुबे उर्फ लालुट, बिहार के छपरा के इसुवापुर थाना इलाके के जितेंद्र पंडित और छपरा के भगवान बाजार थाना इलाके के सुभाष शर्मा को गिरफ्तार गिया है. इन अपराधियों के पास से लूटे गए स्विफ्ट डिजायर भी बिहार से बरामद किया गया है.
एसपी ने बताया कि 11 अगस्त की रात को आपराधिक घटना का शिकार व्यक्ति घायल अवस्था में जमुआ-मिर्जागंज रोड स्थित दुबे नर्सिंग होम में इलाजरत है, मामले की जांच में यह बात सामने आई थी कि घायल का नाम राजू दास है, जो वाहन का चालक है और पश्चिम बंगाल के हावड़ा का रहनेवाला है.
पूछताछ में राजू ने बताया कि 10 अगस्त को ओला एप के माध्यम से तीन लोगों ने हावड़ा से पटना के लिए गाड़ी बुक करवाया, कुछ देर बाद ओला का बुकिंग कैंसल कर उसी गाड़ी की बुकिंग सीधे गाड़ी के चालक और मालिक से संपर्क कर कराया था. राजू ने यह भी बताया कि उसने डब्ल्यू बी 04 एच-1868 नंबर की स्विफ्ट डिजायर कार पर तीनों को 10 अगस्त की रात 11 बजे हावड़ा पिलखाना मोड़ के पास से पटना के लिए पिक किया. दूसरे दिन सुबह 5-6 बजे जमुआ-नावाडीह-महतोटांड-मिर्जागंज-गौशाला रोड के बीच उसके साथ मारपीट कर जख्मी अवस्था में फेंक दिया और गाड़ी, मोबाइल के साथ पैसा छीनकर फरार हो गया.
एसपी ने बताया कि घटना को लेकर जमुआ थाना में कांड संख्या 195/20 अंकित किया गया था, इस मामले का अनुसंधान के लिए खोरीमहुआ एसडीपीओ नवीन कुमार सिंह के नेतृत्व में विशेष टीम का गठन किया गया था, इस टीम में शामिल जमुआ अंचल के पुलिस निरीक्षक विनय कुमार राम, जमुआ थाना प्रभारी संतोष कुमार, अनि सुमंत प्रसाद, अभिषेक कुमार रंजन, सअनि संजीव कुमार पाल के अलावा तकनीकी शाखा के जोधन महतो, हवलदार महेश पासवान, आरक्षी मो ताहिर अंसारी, सन्तोष कुमार, सुरेश मुंडा, सन्तोष कुमार सिंह ने महज पांच दिनों के अंदर कांड का उद्भेदन करते हुए लूटी गई कार को भी बरामद कर लिया.