झारखण्ड वाणी

सच सोच और समाधान

केन्द्रीय स्वास्थ्य विभाग की तीन सदस्यीय जांच कमिटी ने खानापूर्ति कर चलते बने: सुधीर कुमार पप्पू

जमशेदपुर: टाटा मुख्य अस्पताल में लगातार करोना मरीजों के हो रहे मौत की जांच करने के लिए दिल्ली से केंद्र सरकार स्वास्थ विभाग की ओर से तीन सदस्यीय जांच टीम दो दिनों पहले जमशेदपुर आयी थी। इस टीम में शामिल सदस्यों ने शहर के पीड़ित परिवार और लोगों से दूरी बनाए रखी। टीम में शामिल लोगों ने जिला प्रशासन और टीएमएच के उच्चाधिकारियों से मुलाकात करने के बाद वापस चलते बने। लगातार टीएमएच में कोरोना से हो रहे मौत के बारे में किसी भी तरह के प्रतिक्रिया देने के बदले मामले का लीपापोती कर खानापूर्ति कर दिया। इस मामले को लेकर अधिवक्ता सुधीर कुमार पप्पू ने प्रेस बयान जारी करते हुए कहा है कि यह गंभीर मामला है और केंद्र सरकार की टीम पर उन्होंने मामले को रफा दफा कर देने का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि केंद्रीय स्वास्थ्य विभाग के इन तीन सदस्यीय जांच टीम के विरोध में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन से शिकायत की जाएगी। टीम में शामिल लोगों ने किसके प्रभाव में आकर मामले को लीपापोती कर दिया। अधिवक्ता ने कहा है कि इसकी जानकारी मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को भी दी जाएगी और उनसे मांग की जाएगी कि राज्य सरकार एक उच्चस्तरीय जांच टीम भेजकर टीएमएच में लगातार कोरोना मरीजों की मौत की जांच करवाए । दिल्ली से आयी टीम ने अपनी विश्वसनीयता खो दी। उन्होंने कहा कि डॉ हर्षवर्धन से मांग करेंगे कि टीम में शामिल तीनों अधिकारियों के खिलाफ जांच करवायी जाय । टीम के सदस्यों को पीड़ित परिवार यहां के सामाजिक लोगों से संपर्क कर उनकी शिकायत सुननी चाहिए थी लेकिन ऐसा कुछ भी नहीं किया। और बैठे बैठाये क्लीन चिट दे दिया ।