झारखण्ड वाणी

सच सोच और समाधान

केंद्रीय कारा में बंद सजायाफ्ता कैदी की इलाज के दौरान मौत, परिजनों ने लापरवाही का लगाया आरोप

कुणाल सारंगी

दुमका केंद्रीय कारा में सजायाफ्ता कैदी नजरुल शेख की दुमका मेडिकल कॉलेज अस्पताल में इलाज के दौरान मौत हो गई है. बताया जा रहा कि कैदी को अचानक बुधवार की देर रात छाती में दर्द हुआ. जिसकी कारा में प्राथमिकी इलाज के बाद उसे
अस्पताल भेजा गया. जहां उसकी इलाज के दौरान मौत हो गई.

दुमकाः दुमका केंद्रीय कारा में बंद एक सजायाफ्ता कैदी नजरुल शेख की दुमका मेडिकल कॉलेज अस्पताल में इलाज के दौरान मौत हो गई है. मृतक नजरुल साहिबगंज जिले के कोटलपोखर थाना क्षेत्र का रहने वाला था. कोर्ट ने उसे मारपीट के एक मामले में 14 जनवरी 2020 को पांच साल की सजा सुनाई थी. सजा सुनाने के बाद से वह राजमहल उप कारा में बंद था और बुधवार को उसे दुमका के केंद्रीय कारा में शिफ्ट कराया गया था
केन्दीय कारा के कर्मी ने बताया कि बुधवार की रात उसके छाती में दर्द हुआ तो पहले कारा में ही प्राथमिक चिकित्सा की गई और बाद में उसे डीएमसीएच लाया गया जहां इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई. मृतक कांग्रेसी कार्यकर्ता था इसलिए उसकी मौत की खबर सुनकर डीएमसीएच में दुमका जिला के कई कांग्रेसी कार्यकर्ता एकत्रित हो गए.
मृतक के परिजनों का कहना है कि यह मामला संदिग्ध है और कहीं ना कहीं लापरवाही बरती गई है. दुमका के कांग्रेसी कार्यकर्ता इस घटना को संदिग्ध बताते हुए उच्चस्तरीय जांच की मांग की है. इसके साथ ही मृतक के परिजनों के लिए मुआवजा की मांग की है.