झारखण्ड वाणी

सच सोच और समाधान

कैदियों के फरार होने का मामला, सब-इंस्पेक्टर समेत 8 पुलिसकर्मी सस्पेंड

कुणाल सारंगी

लातेहार जिले के कैदियों के फरार होने की घटना के बाद लापरवाह पुलिसकर्मियों पर गाज गिरी है. बता दें कि शनिवार को लातेहार जेल से 2 कैदी दीवार फांद कर फरार हो गए थे. दिन के उजाले में कैदी जेल की दीवार के ऊपर चढ़े और आराम से फरार हो गए, पर सुरक्षा ड्यूटी में लगे सुरक्षाकर्मियों की इसकी भनक तक नहीं लग पाई थी. मामले में वहां तैनात एक सब-इंस्पेक्टर समेत आठ पुलिसकर्मियों पर कार्रवाई की गई है. सभी को निलंबित कर दिया गया है.

लातेहार: जिले में कैदियों के फरार होने की घटना के बाद पूरे मामले में लापरवाही बरतने वाले पुलिसकर्मियों पर कार्रवाई की गई. मामले में लापरवाही बरतने वाले एक सब-इंस्पेक्टर समेत 12 पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया गया है.
दरअसल, बीते शनिवार को लातेहार जेल से 2 कैदी दीवार फांद कर फरार हो गए थे. दिन के उजाले में कैदी जेल की दीवार के ऊपर चढ़े और आराम से फरार हो गए, लेकिन सुरक्षा ड्यूटी में लगे सुरक्षाकर्मियों की इसकी भनक तक नहीं लग पाई थी. घटना के समय एक हवलदार और दो संतरी ड्यूटी पर थे. एसपी ने तीनों को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया है. इसके अलावा लातेहार कोविड-19 सेंटर से फरार हुए कैदी के मामले में वहां तैनात एक सब-इंस्पेक्टर समेत आठ पुलिसकर्मियों पर कार्रवाई की गई है. सभी को निलंबित कर दिया गया है. डीएसपी वीरेंद्र कुमार राम ने इसकी पुष्टि की है.
बता दें कि लातेहार जिले से तीन दिनों के अंदर तीन कैदी सुरक्षा को ठेंगा दिखाते हुए फरार हो गए थे. शनिवार को लातेहार जेल से दिलशाद अंसारी और विक्की राम नाम के कैदी फरार हुए थे. हालांकि, बाद में दोनों कैदी को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया. जबकि सोमवार को भाजपा नेता जयवर्धन सिंह हत्याकांड का मुख्य आरोपी कोविड-19 सेंटर से फरार हो गया था. पूरे मामले में सुरक्षा की कमियां उजागर हुई थी. भाजपा नेता हत्याकांड का आरोपी अभी भी पुलिस की गिरफ्त से बाहर है. लातेहार में कैदियों की सुरक्षा में तैनात सुरक्षाबलों को निलंबित करने के बाद इन पर विभागीय कार्रवाई भी शुरू की गई है