झारखण्ड वाणी

सच सोच और समाधान

जमशेदपुर में भाजपा नेता और अधिवक्ता प्रकाश यादव की चाकुओं से गोदकर हत्या

कुणाल सारंगी

जमशेदपुर: बिरसानगर जोन नंबर 1 बी में मंगलवार रात भाजपा नेता और अधिवक्ता प्रकाश यादव (29) की गला रेत कर हत्या कर दी गई। प्रकाश अभी हाल ही में झारखंड विकास मोर्चा से अभय सिंह के साथ भाजपा में शामिल हुए थे ।

मंगलवार की रात 11.15 बजे हत्यारे तीन की संख्या में पैदल ही आए थे। उन्होंने प्रकाश यादव को आवाज देकर घर से बाहर बुलाया। उसके बाद बात करते हुए उन्हें हरि मंदिर चबूतरा के पास ले गए। चबूतरा में बदली बैठकर बात की। उसके बाद तीनों ने पटक कर उनपर अनगिनत चाकुओं से वार किया। उसके बाद गला रेता और मरने तक बदमाश वहीं थे। घटना को अंजाम देने के बाद बदमाश हुड़लूंग की तरफ फरार हो गए। हत्या जॉन 1बी के टेन बेड अस्पताल के निकट घटी है। यहीं प्रकाश का घर भी है। घटना की सूचना मिलते ही पूरे इलाके में अफरा-तफरी मच गई। परिवार वाले घर से निकल कर सड़क पर उतर आए। पत्नी चांदनी देवी ने बताया कि उसने किसी को देखा नहीं। बस बाहर से आवाज आई और प्रकाश बाहर चले गए। उसके बाद हत्या कर दी गई। प्रकाश का सबसे छोटा बेटा एक साल का जबकि बड़ा बेटा 5 साल का है। तीन साल की एक बेटी भी है।


आक्रोशित लोगों ने किया रोड जाम : हत्या की सूचना मिलते ही लोगों का हुजूम सड़क पर आ गया। उन्होंने रोड जाम करते हुए शव को उठाने से इंकार कर दिया। उनका कहना था कि जब तक हत्यारोपी गिरफ्तार नहीं होंगे तब तक शव को नहीं उठने देंगे। लोग एक जमीन कारोबारी पर आरोप लगा रहे थे, जो एक राजनीतिक दल का नेता भी है।

जमीन माफिया के खिलाफ खोला था मोर्चा : प्रकाश यादव ने उस इलाके में जमीन माफिया के खिलाफ मोर्चा खोल लिया था। सरकारी जमीन का जो भी अतिक्रमण कर उसे बेचने की कोशिश करता था प्रकाश यादव उसके खिलाफ थाना में जाकर सीधा आवेदन दे देते थे और पुलिस से कार्रवाई करने की मांग करते थे। इसके अलावा उनके द्वारा जमीन माफिया के खिलाफ सोशल मीडिया में लगातार पोस्ट भी डाला जा रहा था। जिसे लेकर उन्हें धमकी मिल रही थी। उन्हें लगातार मिल रही धमकियों को लेकर पुलिस से भी शिकायत की थी।

अभय सिंह ने कहा, पर्दे के पीछे कोई और : घटना की सूचना मिलते ही भाजपा नेता अभय सिंह ने तुरंत ही एसएसपी तमिलवानन से बात की और उनसे मांग की कि इस घटना में जो भी व्यक्ति लिप्त है उन पर कड़ी कार्रवाई की जाए। अभय सिंह का कहना है कि इस घटना में पर्दे के पीछे से खेल खेला गया है और बड़ी हस्ती इसमें शामिल है। पुलिस पूरी तरह से मामले की जांच कर जितना भी बड़ा बड़ा व्यक्ति इस हत्या में प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से शामिल है उसके खिलाफ कार्रवाई करे। अभय सिंह प्रकाश के घर भी पहुंचे और परिवार वालों को सांत्वना दी। उन्होंने कहा कि यदि हत्यारोपी को हमें गिरफ्तार नहीं करवाएंगे तो वह बिरसानगर आना छोड़ देंगे।

पुलिस का विरोध : हत्या की सूचना मिलते ही सिटी एसपी के नेतृत्व में काफी संख्या में पुलिस बल मौके पर पहुंचा। एसपी सिटी ने उठाने के लिए लोगों से बातचीत करने की कोशिश की लेकिन लोगों ने विरोध कर दिया। देर रात तक हंगामा होता रहा। एसपी सिटी के काफी देर तक समझाने के बाद लोगों ने शव को उठाने दिया शव को उठाकर अस्पताल में रखा गया है।

हत्या से पहले इलाके की लाइट बुझाई : हत्या करने से पहले बदमाशों ने पूरे इलाके की लाइट बुझा दी थी। पूरे इलाके में अंधेरा छाया हुआ था। हालांकि जिस जगह प्रकाश की हत्या की गई उस जगह लोगों का आना-जाना लगा रहता है। आसपास में दुकानें भी हैं। लोगों का कहना है कि घटना से लगभग 20 मिनट पहले ही इस पूरे इलाके में लाइट चली गई थी जबकि से सटे दूसरे इलाके में बिजली थी।

जमीन को लेकर विवाद : बताया जा रहा बिरसा नगर इलाके के एक बीघा जमीन को लेकर विवाद हुआ था जिसमें एक बड़े अधिकारी का पैसा लगने की बात सामने आई थी। इस मामले को लेकर प्रकाश यादव ने मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को ट्वीट भी किया था। इसे लेकर भी तनाव बना हुआ था।