झारखण्ड वाणी

सच सोच और समाधान

जमीन दलाली में लगे पुलिसकर्मियों पर होगी कार्रवाई

कुणाल सारंगी
  1. झारखंड के डीजीपी एमवी राव ने सोमवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए सभी जिलों के एसएसपी, एसपी और डीआईजी के साथ समीक्षा बैठक की. इसमें उन्होंने अपराधियों और आपराधिक कांडों में वांछित अभियुक्तों की गिरफ्तारी के लिए सघन अभियान चलाने का निर्देश दिया. साथ ही जमीन की दलाली से जुड़े पुलिसकर्मियों के खिलाफ कार्रवाई के निर्देश दिए हैं.

रांची: झारखंड पुलिस मुख्यालय में सोमवार को सभी जिलों के एसपी और डीआईजी के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से समीक्षा बैठक हुई. बैठक के दौरान डीजीपी एमवी राव ने पुलिसकर्मियों के जमीन दलाली में जुड़े होने की बात उठाई. देवघर में एक स्वतंत्रता सेनानी की जमीन पर पुलिसकर्मी के कब्जा करने की मुद्दे पर डीजीपी ने नाराजगी जताई और एसपी पीयूष पांडेय को फटकार भी लगाई
डीजीपी एमवी राव ने स्पष्ट संदेश दिया कि चंद पुलिसकर्मियों के कारण पूरे महकमे पर सवाल उठ जाता है. डीजीपी ने देवघर एसपी को फटकार लगाते हुए यहां तक कह डाला कि उन्होंने दोषी पुलिसकर्मी पर कोई कार्रवाई नहीं की, क्यों नहीं ये माना जाए की आपकी भी संलिप्तता पूरे मामले में है. डीजीपी ने सभी जिलों के एसपी को निर्देश दिया कि पुलिसकर्मियों की छवि में सुधार का प्रयास करें, जमीन दलाली में लगे पुलिसकर्मियों को चिंहित कर सख्त कार्रवाई करें. जिलों के एसपी ने अपने यहां कार्यरत थानेदारों की ओर से अनुसंधानरत मामलों की भी जानकारी मुख्यालय को दी है.
समीक्षा बैठक के दौरान अधिकांश जिलों के एसपी ने पेट्रोल पंप के बकाया का भी मुद्दा उठाया. जिलों के एसपी ने डीजीपी को जानकारी दी कि लोकसभा और विधानसभा के वक्त से लेकर अबतक पेट्रोल पंपों का करोड़ों का बकाया हो चुका है. ऐसे में पेट्रोल पंप वाले तेल देने से इंकार करने लगे हैं, जिससे काम प्रभावित हो रहा है. जिलों के एसपी ने मुख्यालय से गुहार लगाई है कि आवंटित राशि को रिलीज किया जाए, ताकि पंपों का बकाया दिया जा सके. वहीं इस मामले में आईजी प्रोविजन सुमन गुप्ता ने जिलों में पेट्रोल में खर्च संबंधी पूरी जानकारी नहीं दिए जाने की बात उठाई.
डीजीपी एमवी राव ने सभी जिलों के एसपी को निर्देश दिया है कि वह स्थानांतरित पुलिसकर्मियों को एक सप्ताह के भीतर विरमित करें. कई जिलों में स्थानांतरित पुलिसकर्मियों से भी काम लिए जाने की बात सामने आई है. समीक्षा बैठक के दौरान डीजीपी ने कोविड संक्रमित पुलिसकर्मियों की वर्तमान स्थिति के बारे में भी जानकारी ली.
कोविड संक्रमित पुलिसकर्मियों को अपेक्षित सुविधा और सहायता देने का निर्देश भी डीजीपी ने दिया. साइबर अपराधियों पर अंकुश लगाने और नक्सल अभियान में तेजी लाने का निर्देश डीजीपी ने दिए हैं. पुलिसकर्मियों के विरूद्ध विभागीय कार्रवाई और इसके निष्पादन, निलंबन से संबद्ध मामलों की समीक्षा, सेवा पुस्तिका में अद्यतन प्रविष्टि, आरक्षी से पुलिस निरीक्षक स्तर की कोटि के कर्मियों की ओर से स्थानांतरण अनुरोध पर विचार, सभी फरार अपराधकर्मियों और आपराधिक कांड़ों में वांछित अभियुक्तों की गिरफ्तारी हेतू सघन अभियान आदि जैसे महत्वपूर्ण बिंदुओं पर विशेष निर्देश दिए गए. बैठक में एडीजी सीआईडी अनिल
पालटा, एडीजी रेल प्रशांत सिंह, एडीजी विशेष शाखा मुरारी लाल मीणा समेत अन्य अधिकारी मौजूद थे.