झारखण्ड वाणी

सच सोच और समाधान

जाने एक ऐसी जेल, जहां लाशों को खाते हैं कैदी

कुणाल सारंगी

समाज में शांति व्यवस्था को बनाए रखने और दोषियों को कानूनन सजा दिलाने के लिए जेल में कैद किया जाता है। दुनियाभर में मौजूद जेलों को लेकर आपने कई तरह की बातें सुनी होगी। कई जेलों में कैदियों के साथ बहुत बुरा बर्ताव किया जाता है, तो वहीं कई जेलों में थर्ड डिग्री देकर टॉर्चर किया जाता है। लेकिन आज हम आपको एक ऐसे जेल के बारे में बताएंगे, जो दुनिया के सबसे खतरनाक जेलों में शुमार है। इस जेल में कैदियों का जीवन हर समय खतरे में रहता है। इस जेल का नाम गीतारामा सेंट्रल जेल है जो अफ्रीकी देश रवांडा में स्थित है। ऐसा कहा जाता है कि इस जेल में सुरक्षाकर्मी कैदियों को बिल्कुल नुकसान नहीं पहुंचाते हैं। लेकिन कैदी आपस में ही एक-दूसरे को जान से मार देते हैं। हैरान करने वाली बात ये है कि इस जेल के कैदी लाशों को खा भी जाते हैं।मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, गीतारामा सेंट्रल जेल की क्षमता 600 कैदियों की हैं। लेकिन यहां पर 7,000 से भी अधिक कैदियों को रखा जाता है। जेल में जगह कम होने के वजह से कैदियों को खड़े-खड़े ही दिन गुजारना पड़ता है।गीतारामा सेंट्रल जेल में कैदी दिन-रात खड़े होने के वजह से किसी न किसी बीमारी के चपेट में आ जाते हैं, जिससे उनकी मौत हो जाती है। एक मीडिया रिपोर्ट की मानें, तो इस जेल में हर दिन 8 लोगों की मौत हो जाती है। कई मानवाधिकार संगठन जेल की प्राशसनिक व्यवस्था को लेकर विरोध करते रहे हैं। लेकिन इन विरोध के बावजूद भी गीताराम सेंट्रल जेल के कैदियों के जीवन स्तर में कोई खास सुधार नहीं आया है।