झारखण्ड वाणी

सच सोच और समाधान

हड़ताल पर पारा स्वास्थ्यकर्मी, उपायुक्त ने दी कड़ी चेतावनी

कुणाल सारंगी

आज पारा कर्मियों ने बोकारो सदर अस्पताल के मुख्य गेट के पास धरना देकर अपना विरोध जाताया. पारा कर्मियों का कहना है कि जब तक सरकार उन्हें नियमितीकरण का आदेश नहीं देती तब तक इसी प्रकार से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर बैठे रहेंगे.

बोकारो: जिले के लगभग साढे तीन सौ पारा स्वास्थ्यकर्मी अनिश्चितकालीन हड़ताल पर हैं. गुरुवार को पारा कर्मियों ने बोकारो सदर अस्पताल के मुख्य गेट के पास धरना देकर अपना विरोध जाताया. पारा कर्मियों का कहना है कि जब तक सरकार उन्हें नियमितीकरण का आदेश नहीं देती तब तक इसी प्रकार से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर बैठे रहेंगे.
पारा स्वास्थ्य कर्मियों के हड़ताल पर चले जाने से जिले की स्वास्थ्य व्यवस्था चरमरा गई है. इन कर्मियों के हड़ताल पर जाने से सदर अस्पताल के कोविड-19 सेंटर जांच पर इसका असर देखा जा रहा है. वहीं, इस मामले में कोविड-19 के प्रभारी चिकित्सक डॉक्टर एनपी सिंह ने कहा कि इनके हड़ताल से चले जाने से चिकित्सा व्यवस्था पर इसका असर पड़ा है. उन्होंने कहा कि सहानुभूति के साथ स्वास्थ्यकर्मी हमारा साथ दे रहे हैं, लेकिन उनके कार्य में नहीं होने से कोरोना जांच समेत अन्य कामों में इसका असर सबसे अधिक है
वहीं, इस मामले में बोकारो के उपायुक्त राजेश सिंह ने कड़ी चेतावनी देते हुए आदेश जारी कर कहा कि बोकारो जिला अंतर्गत राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के तहत कार्यरत लैब टेक्नीशियन, एएनएम और जीएनएम जो हड़ताल पर गए हुए है वे सभी कर्मी शुक्रवार तक अपने-अपने कार्यालय में योगदान देकर अपने कार्य दायित्व का निर्वहन करना सुनिश्चित करें. उपायुक्त ने कहा कि ऐसा नहीं करने पर इन पर आपदा प्रबंधन अधिनियम की धारा 56, 57 और 65 के तहत सेवा बर्खास्त करने की कार्रवाई की जाएगी.