झारखण्ड वाणी

सच सोच और समाधान

गुमला के बंधक मजदूरों पर डीसी ने लिया संज्ञान, तमिलनाडु में फंसे हैं नौ लोग

गुमला के बंधक मजदूरों पर डीसी ने लिया संज्ञान, तमिलनाडु में फंसे हैं नौ लोग

गुमला के नौ मजदूरों को तमिलनाडु स्थित एक धागा कंपनी में पिछले पांच दिनों से बंधक बनाकर रखने का मामला प्रकाश में आया है जिसके बाद गुमला डीसी शिशिर कुमार ने संज्ञान लेते हुए शुक्रवार को श्रम अधीक्षक की टीम को खोरा पतरा टोली के लिए रवाना कर रिपोर्ट तैयार करने का निर्देश दिया.

गुमलाः जिले के नौ मजदूरों को तमिलनाडु स्थित एक धागा कंपनी में पिछले पांच दिनों से बंधक बनाकर रखने का मामला प्रकाश में आया है जिसके बाद डीसी शिशिर कुमार ने संज्ञान लेते हुए शुक्रवार को श्रम अधीक्षक की टीम को खोरा पतरा टोली के लिए रवाना कर रिपोर्ट तैयार करने का निर्देश दिया. वहीं आगे की कार्रवाई किए जाने की बात कही है. वहीं डीसी ने क्षेत्र के बीडीओ को मनरेगा जैसे योजना के संचालन करने और लोगों को रोजगार उपलब्ध कराने की बात कही है, जिससे रोजगार की तलाश में लोग पलायन नहीं करे.
जानकारी के अनुसार, जिले के खोरा पतरा टोली और बरगांव के मजदूर जिनमें बारह माह का एक बच्चा, छह पुरूष, तीन महिलाएं रांची के एक दलाल के बहकावे में आ कर आठ दिन पहले गुमला से तमिलनाडु पहुंच एक धागा कंपनी में काम कर रहे है. जंहा दिन रात काम लिया गया. वहीं काम के दबाव से घबराये मजदूरों ने काम करने से मना कर दिया. जिससे नाराज कंपनी प्रबंधन ने मोबाईल और आधार कार्ड जब्त कर एक कमरे में सभी मजदूरों को बंद कर कंपनी की ओर से कहा गया कि तुम लोग को झारखंड से यंहा लाने में 60 हजार से ज्यादा लगा है, पैसे दो तभी मुक्त किया जाएगा.

वहीं इस बात का खुलासा तब हुआ जब कंपनी के मालिक की ओर से मजदूरों के परिजनों को दो बैंकों का खाता नंबर भेजकर कहा गया कि अगर चौबीस घंटे तक पैसा नहीं मिलता है, तो सभी के हाथ पैर तोड़ देंगे. बंधक बनाये जाने वाले में खोरा पतरा टोली के मंगल देव उरांव, सुषमा कुमारी, एतवा उरांव, सरस्वती कुमारी, अनिता कुमारी, सुनील उरांव, सुधीर उरांव, सुरेंद उरांव और बरगांव के अजित उरांव शामिल हैं.

इस मामले की जानकारी देते हुए परिजन सौहाद्र्रा ने बताया कि जबरदस्ती सभी को ले जाया गया है वहीं एक रूम में बंद कर दिया गया है. जिससे वे परेशानी में है. वहीं तारामुनि ने बताया कि सुया और जानकी नाम के दो दलालों ने चंगुल में फंसाकर हमें बिना बताये सभी को काम के बहकावे में ले जाया गया.