झारखण्ड वाणी

सच सोच और समाधान

एलिफेंट कॉरिडोर निर्माण से काली मंदिर की सड़क होगी बंद, 10 गांव के लाखों लोग होंगे प्रभावित

कुणाल सारंगी

सरायकेला के पारडीह चौक से काली मंदिर की ओर जाने वाले फोरलेन निर्माण में एलिफेंट कॉरिडोर निर्माण प्रस्तावित है, जिसकी वजह से काली मंदिर की सड़क बंद होगी. वहीं, इसकी वजह से 10 गांव के लोगों को परेशानी होगी.

सरायकेला: जमशेदपुर और सरायकेला सीमा से सटे पारडीह चौक से पारडीह काली मंदिर के बीच टाटा-रांची हाईवे फोरलेन सड़क निर्माण के तहत प्रसिद्ध काली मंदिर के सड़क बंद किए जाने की योजना है. पारडीह चौक से काली मंदिर की ओर जाने वाले फोरलेन निर्माण में एलिफेंट कॉरिडोर निर्माण प्रस्तावित है. ऐसे में सड़क बंद होने से एक बड़ी आबादी इससे प्रभावित होगी.
रांची-टाटा फोरलेन सड़क निर्माण के तहत कपाली चौक से काली मंदिर के बीच स्वीकृत सड़क निर्माण के तहत सर्विस लेन बंद किए जाने का मामला सामने आ रहा है. काली मंदिर की ओर जाने वाले फोरलेन के नीचे एक स्थान पर एलिफेंट कॉरिडोर प्रस्तावित है, जिसकी वजह से पारडीह चौक से आगे काली मंदिर जाने वाले सर्विस लेन को भविष्य में बंद किया जाएगा. एलिफेंट कॉरिडोर निर्माण को लेकर स्थल चिंहित है. पारडीह चौक के पास एलिफेंट कॉरिडोर तक पहले एक फ्लाई ओवर बनाया जाएगा, जिसके बाद लोगों को पारडीह चौक से फ्लाई ओवर के नीचे अंडरपास से गुजरकर डिमना चौक तक आना होगा और डिमना चौक पर बने फ्लाईओवर से पारडीह की ओर जाना पड़ेगा, जिसकी दूरी तकरीबन 5 किलोमीटर होगी. ऐसे में एक बड़ी आबादी को नजदीक का सफर तय करने के लिए 5 किलोमीटर की अतिरिक्त दूरी तय करनी पड़ेगी. चांडिल थाना क्षेत्र अंतर्गत पारडीह चौक से आगे काली मंदिर जाने वाले सर्विस लेन को बंद किए जाने के कारण पारडीह की ओर जाने वाले लोगों को 5 किलोमीटर अतिरिक्त दूरी तय करनी होगी, जिससे कपाली, काली मंदिर, ब्रह्मानंद अस्पताल तामुलिया, फदलूगोड़ा जाने के लिए भी काली मंदिर के काफी आगे से फोरलेन सर्विस लेन में जाना पड़ेगा. ऐसे में सर्विस लेन बंद होने से आस-पास के तकरीबन 10 गांव के लोगों को परेशानी होगी और लाखों की आबादी इससे प्रभावित होगी पारडीह स्थित प्रसिद्ध काली मंदिर के पास सड़क बंद होने से मंदिर के स्वामी विद्यानंद सरस्वती ने गहरी नाराजगी जताई है. इन्होंने स्थानीय जनप्रतिनिधि, सांसद, विधायक समेत राष्ट्रीय राजमार्ग भूतल और परिवहन विभाग से मामले की शिकायत की है. स्वामी विद्यानंद सरस्वती ने बताया कि सर्विस लेन सड़क बंद होने से 10 गांव के लाखों लोगों को भारी परेशानी होगी. इसके अलावा पारडीह स्कूल में पढ़ने वाले सैकड़ों बच्चों, शिक्षकों के साथ अभिभावकों को भी परेशानियों का सामना करना पड़ेगा. ऐसे में सड़क निर्माण और एलिफेंट कॉरिडोर निर्माण के बीच जनहित को देखते हुए फैसला लेना चाहिए.