झारखण्ड वाणी

सच सोच और समाधान

दरबारी दुर्योग मिले

दरबारी दुर्योग मिले
***************
उड़ा के पंक्ति कविता लिखनेवाले कितने लोग मिले
मित्र सूची में देखा हमने ये संक्रामक रोग मिले

डिग्री से विद्वान लगे हैं, मिली उपाधि बड़ी बड़ी
शुद्ध वाक्य लिखने में दिक्कत, ऐसे भी संयोग मिले

कविता है संकेत की भाषा कहकर आगे बढ़ जाती
नाम-जाप कविता में हो या शब्द-भाव का योग मिले?

परम्परा में यशोगान तो चारण करते शासक का
मगर अभी तो कलमकार में दरबारी दुर्योग मिले

कलम को गिरवी सुमन रखे जो वैचारिक अंधे होते
शायद इनको शासक से कुछ सुख सुविधा का भोग मिले

श्यामल सुमन