झारखण्ड वाणी

सच सोच और समाधान

बिल्डर ने खुद पर चलवाई थी गोली,बिल्डर समेत 7 गिरफ्तार

कुणाल सारंगी

सरायकेला-खरसंवाँःआदित्यपुर में 18 जुलाई की शाम बिल्डर संजय महंती पर गोली चली थी.घटना को लेकर एसपी मो.अर्शी ने इस मामले में संजय महंती की शिकायत पर दो अज्ञात लोगों के खिलाफ मामला दर्ज करवा कर एएसपी राकेश रंजन के नेतृत्व में जाँच टीम का गठन किया.जाँच के क्रम में पता चला कि संजय महंती का अशोक प्रधान और उसके भाईयों से पैसे के लेन-देन को लेकर विवाद था,जिसके कारण संजय ने खुद पर गोली चलवाई है.
इस घटना का खुलासा करते हुए एसपी ने बताया कि संजय महंती और अशोक प्रधान व उसके भाईयों के बीच आदित्यपुर के आसंगी में जमीन की खरीद-बिक्री को लेकर एक एग्रीमेंट बना था.एग्रीमेंट के पावर आॅफ अटोर्नी का इस्तेमाल कर संजय प्लाॅटिंग कर जमीन बेच रहा था.इसी बीच अशोक प्रधान और उसके भाईयों के साथ पैसे के लेन-देन के विवाद को लेकर संजय महंती के साथ एग्रीमेंट रद्द हो गया.इस विवाद के बाद ग्राहकों द्वारा संजय पर जमीन का कब्जा दिलवाने अथ्वा पैसे लौटाने का दबाव बढ़ गया.संजय महंती द्वारा अपने साला शंकर कुंवर और स्टाफ शंकर पाल को एक षडयंत्र रचकर खाता व नगद द्वारा क्रमशः 60 हजार और 1.5 लाख का भुगतान शूटर को देकर अपनी ही गाडी़ पर गोली चलवाने के लिए दिया गया.
संजय ने सोचा इस षडयंत्र के तहत अशोक प्रधान और उसके भाईयों को फंसाकर जेल भेजवा कर समझौता करने के नाम पर न सिर्फ पावर आॅफ अटाॅर्नी दोबारा हासिल कर लेगा बल्कि एक सरकारी बाॅडीगार्ड भी ले लेगा.संजय महंती,उसके साला शंकर कुंवर और स्टाफ शंकर पाल ने सातबहनी के अपराधी अमित पाल को घटना को अंजाम देने के लिए पैसे दिए जिसके बाद अमित पाल ने शूटर चांद नायक उर्फ मासा से संपर्क किया.मासा ने अपने साथी अजय मंडल के साथ तय तिथी और समय के अनुसार 18 जुलाई की शाम संजय महंती की कार पर फायरिंग के लिए मंगलम सिटी के पास अपनी काले रंग की पल्सर मोटरसाईकल से पहुँचे और 4 राउंड गोली चलाकर घटना स्थल से फरार हो गये.
जाँच के क्रम में पुलिस ने बिल्डर समेत षडयंत्र में शामिल सात लोगों को गिरफ्तार कर घटना में इस्तेमाल काले रंग की पल्सर,लाल रंग की बिना नंबर की स्कूटी,7.65 बोर का पिस्टल, एक जिंदा कारतूस,1,51,170/- नगद और आठ मोबाईल बरामद कर लिए हैं.
गिरफ्तार बिल्डर संजय महंती, उसका साला शंकर कुंवर और चांद नायक उर्फ मासा की पूर्व से ही अपराधिक पृषठभूमि रहा है जबकि अन्य गिरफ्तार शंकर पाल,अमित पाल,संतोष चौहान और अजय मंडल का अपराधिक इतिहास खंगाला जा रहा है.