झारखण्ड वाणी

सच सोच और समाधान

बिहार-बंगाल से झारखंड प्रवेश पर कराना होगा रेजिस्ट्रेशन, बिना ई-पास के गाड़ियों की भी नो एंट्री

Ambuj Kumar Kunal Sarangi width Anshar Khan ADJ Kamlesh Jitendra Rais Rozvi Rishi Mishra Rina Gupta

झारखंड में बढ़ते कोरोना वायरस के संक्रमण को देखते हुए राज्य सरकार ने नया एसओपी जारी किया है. सरकार के आदेश के बाद, दूसरे राज्यों से सटी झारखंड की सभी
राज्यों से सटी झारखंड की सभी सीमाओं को सील कर दिया गया है. इसे लेकर देवघर उपायुक्त ने बिहार और पश्चिम बंगाल से आने वाले लोगों पर विशेष निगरानी रखने को कहा है. साथ ही बिना ई-पास के जिले में किसी भी वाहन के प्रवेश पर रोक लगा दिया है.

देवघर: झारखंड के स्वास्थ्य सचिव की ओर से पत्र जारी कर बिहार और पश्चिम बंगाल से कोरोना के मरीजों के झारखंड पहुंचने की आशंका व्यक्त की गई है. सचिव ने संबंधित जिला प्रशासन से इन राज्यों से झारखंड आने वाले मरीजों पर नजर रखने
की आशंका व्यक्त की गई है. सचिव ने संबंधित जिला प्रशासन से इन राज्यों से झारखंड आने वाले मरीजों पर नजर रखने को कहा है. देवघर के सीमावर्ती जिला होने के कारण जिला प्रशासन जिले के चेक नाका पर विशेष चौकसी बरत रहा है.
देवघर:उपायुक्त कमलेश्वर प्रसाद सिंह ने कहा कि बिहार से लगने वाली अंतरराज्यीय सीमा पर पूरी चौकसी बरती जा रही है. आठ-आठ घंटे के रोटेशन पर इन चेक पोस्ट पर मजिस्ट्रेट और पुलिस पदाधिकारी की प्रतिनियुक्ति की गई है. बिहार या पश्चिम बंगाल से देवघर के रास्ते झारखंड में प्रवेश करने वालों का रजिस्ट्रेशन चेक किया जा रहा है. ऐसे लोगों को अनिवार्य रूप से चौदह दिनों तक होम क्वॉरेंटाइन में रहने की हिदायत दी जाती है. जिसका मॉनिटरिंग अनुमंडल स्तर पर एसडीएम के नेतृत्व में गठित टीम करती है. देवघर में लगातार बढ़ रहे कोरोना मरीजों की संख्या को देखते हुए लोगों से भी अतिरिक्त सतर्कता बरतने की अपील की जा रही है. देवघर में अब तक लगातार बढ़ते कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 174 तक पहुंच चुकी है. जिसमें अभी भी 60 एक्टिव संक्रमित मरीज हैं.
झारखंड में बढ़ते कोरोना वायरस के संक्रमण को देखते हुए राज्य सरकार ने नया एसओपी जारी किया है. सरकार के आदेश के बाद, दूसरे राज्यों से सटे झारखंड की सभी सीमाओं को सील कर दिया गया है. वहीं, बिना ई-पास वाले वाहनों की अब झारखंड में नो एंट्री कर दी गई है. बिहार से लगे झारखंड की सीमा हो या झारखंड-पश्चिम बंगाल बॉर्डर, सभी पर मजिस्ट्रेट के साथ पुलिस बल को नियुक्त किया गया है. बिहार और बंगाल से ज्यादा संख्या में लोगों की झारखंड आवाजाही होती है. ऐसे में इन इलाकों के ग्रामीण क्षेत्र जिन रास्तों से लोग झारखंड प्रवेश कर सकते हैं उन सभी रुट
पर अब सख्ती रहेगी. झारखंड के सभी सीमाओं पर सख्त पहरा है. कोरोना संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए राज्य सरकार के दिशा-निर्देश का सख्ती से पालन कराने की जिम्मेदारी झारखंड पुलिस पर है. इसको लेकर झारखंड के डीजीपी एमवी राव ने भी राज्य के सभी जिला अधिकारियों को दिए हैं.

About Post Author