झारखण्ड वाणी

सच सोच और समाधान

भूख से मौत पर शुरू हुई राजनीति, मुआवजे की मांग को लेकर भाजपा ने निकाला कैंडल मार्च

धनबाद में भाजपा अनुसूचित जाति मोर्चा ने कैंडल मार्च निकाला. कैंडल मार्च के दौरान भाजपा अनुसूचित जाति ने भूख से मरने वाले मृतक परिवार के लोगों को 25 लाख मुआवजा और नौकरी देने की सरकार से मांग की.

धनबाद: जिले में मार्च महीने में भूख से बोकारो के शंकरडीहा गांव के रहने वाले 42 वर्षीय भूखल घासी और उनके परिवार के दो सदस्यों की मौत हो गई थी. इसके खिलाफ अब लोदना बाजार के अंबेडकर चौक से भाजपा अनुसूचित जाति मोर्चा ने कैंडल मार्च निकाला. इस दौरान मृतक परिवार के लोगों को 25 लाख मुआवजा और नौकरी देने की सरकार से मांग की.
मोर्चा कार्यकर्ता हाथों में तख्ती लिए भूखल के परिवार को न्याय देने की मांग करते नजर आए. मोर्चा के पूर्व प्रदेश उपाध्यक्ष राजेश पासवान ने कहा कि तीनों की मौत के लिए राज्य सरकार जिम्मेदार है. उन्होंने कहा कि भूख से एक ही परिवार के तीन लोगों की मौत के बाद भी हेमंत सरकार गंभीर नहीं है. कार्यकर्ताओं ने वर्तमान सरकार को दलित विरोधी सरकार करार दिया है.
पूर्व पार्षद अनुरंजन सिंह, उपेंद्र विश्वकर्मा, धर्मवीर पासवान, महेश पासवान, पप्पू विश्वकर्मा, जयराम दास, अनिल पासवान, और संजय निषाद समेत कई कार्यकर्ता कैंडल मार्च में शामिल हुए.