झारखण्ड वाणी

सच सोच और समाधान

भारतीय मजदूर संघ का ‘सरकार जगाओ सप्ताह’, मजदूर विरोधी फैसले वापस लेने की मांग

कुणाल सारंगी

भारतीय मजदूर संघ के बैनर तले सरकार जगाओ सप्ताह कार्यक्रम मनाया गया. इसके अंतर्गत बड़कागांव एनटीपीसी ऑफिस के सामने भारतीय मजदूर संघ ने सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए नुक्कड़ सभा और प्रदर्शन किया

हजारीबाग: भारतीय मजदूर संघ के बैनर तले सरकार जगाओ सप्ताह कार्यक्रम आयोजन किया गया. इसके अंतर्गत बड़कागांव एनटीपीसी ऑफिस के सामने भारतीय मजदूर संघ बड़कागांव प्रखंड के लोगों ने 30 जुलाई गुरुवार को सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए नुक्कड़ सभा और प्रदर्शन किया. बता दें कि पूरे भारत वर्ष में 24 जुलाई से 30 जुलाई तक सरकार जगाओ सप्ताह आयोजन भारतीय मजदूर संघ ने किया. इसी कड़ी में बड़कागांव भारतीय मजदूर संघ ने यह कार्यक्रम किया. जिसमें बुलंदी पूर्वक सरकार मजदूर विरोधी कानून वापस लो, कॉमर्शियल माइनिंग वापस लो, श्रमिक विरोधी श्रम कानून वापस लो तरह के नारा लगाकर विरोध प्रदर्शन किया.
इस अवसर पर सचिव नवीन सिन्हा ने कहा कि कोयला जगत संकट में है. केंद्र सरकार कोयला उद्योग का निजीकरण कर रही है. कोयला क्षेत्र में कॉमर्शियल माइनिंग की अनुमति दी गई है. मजदूरों के अहित में श्रम कानून में संशोधन किया जा रहा है. सरकार का यह मजदूर विरोधी कदम है. सरकार के इस फैसले का भारतीय मजदूर संघ विरोध करता है.
अध्यक्ष गैलेक्सी गौरव ने कहा कि मजदूर विरोधी फैसले को केंद्र सरकार जल्द से जल्द वापस नहीं लेती है तो बाध्य होकर भारतीय मजदूर संघ कामगारों के साथ विशाल प्रदर्शन करने पर विचार करेगा. इस कार्यक्रम में मुख्य रूप से बड़कागांव अध्यक्ष गैलेक्सी गौरव, सचिव नवीन सिन्हा, मिडिया प्रभारी ज्ञानचंद कुमार उर्फ ज्ञानी, उपाध्यक्ष ओमकार शर्मा, उपाध्यक्ष वीरेंद्र ओझा, सहसचिव आनंद प्रसाद कुशवाहा, सहसचिव अरुण कुमार, संगठन मंत्री मुन्ना खान, कार्यकारणी सदस्य चरकु उरांव, अशोक ठाकुर उपस्थित थे.