झारखण्ड वाणी

सच सोच और समाधान

आयकर रिटर्न में लाभ पहुंचाने के मामले में सीबीआई की विशेष अदालत में हुई सुनवाई

कुणाल सारंगी

व्यापारियों को आयकर रिटर्न में री-असेसमेंट कर उन्हें लाभ पहुंचाने के मामले में सीबीआई की विशेष अदालत में सुनवाई हुई. सीबीआई ने इसमें आयकर अधिकारी सुवीर कुमार गांगुली को आरोपी बनाया है.

रांची: व्यापारियों को आयकर रिटर्न में लाभ पहुंचाने के मामले में सीबीआई की विशेष अदालत में सुनवाई हुई. अदालत ने 31 अगस्त तक अदालत में उपस्थित होकर जवाब पेश करने को कहा है.
व्यापारियों को आयकर रिटर्न में री-असेसमेंट कर उन्हें लाभ पहुंचाने के मामले में सीबीआई की दिल्ली शाखा ने एक और आयकर अधिकारी (आईटीओ) व जमशेदपुर के सोनारी निवासी सुवीर कुमार गांगुली को आरोपी बनाया है. सीबीआई ने मामले में पूरक चार्जशीट दाखिल की है जिसमें पन्द्रहवें आरोपी के रूप में सुवीर कुमार गांगुली का नाम है. उन पर विश्वनाथ अग्रवाल एवं अन्य व्यापारियों को री-असेसमेंट में मदद पहुंचाने के नाम पर ढाई लाख रुपए अवैध राशि लेने का आरोप है.
सीबीआई ने मामले में विश्वनाथ अग्रवाल, पवन मौर्या एवं संतोष शाह के बीच मोबाइल पर हुई बातचीत को आधार बनाया है. पूर्व में सीबीआई तत्कालीन प्रधान आयकर आयुक्त तापस कुमार दत्ता समेत चौदह आरोपियों के खिलाफ चार्जशीट दाखिल कर चुकी है. दाखिल चार्जशीट पर सीबीआई के विशेष न्यायाधीश एके मिश्रा की अदालत ने संज्ञान लेते हुए आरोपी के खिलाफ सम्मन जारी कर दिया है.