झारखण्ड वाणी

सच सोच और समाधान

सेवानिवृत्त दिव्यांग महिला आरक्षी की मदद को कोल्हान डीआईजी और डीसी के निर्देश पर कवायद शुरू

सेवानिवृत्त दिव्यांग महिला आरक्षी की मदद को कोल्हान डीआईजी और डीसी के निर्देश पर कवायद शुरू

◆ रोमाला पूर्ति के दोनों पाँव कट गये, कैंसर से बेटे का निधन, विभागीय पेंशन अवरुद्ध रहने से बेटी की पढ़ाई और राशन पर आ गई थी आफ़त
◆ मामले को भाजपा नेता अंकित आनंद और नम्या फाउंडेशन ने ट्वीट कर लाया था प्रशासन के संज्ञान में
अवरुद्ध पेंशन और कटे पैर के कारण अभाव व बेचारगी की जीवन गुजारने को विवश टेल्को निवासी सेवावृत्त महिला आरक्षी रोमाला पूर्ति (63) की मदद को प्रशासनिक कवायदें प्रारंभ हो चुकी हैं। जिला उपायुक्त सूरज कुमार सहित कोल्हान डीआईजी राजीव रंजन सिंह के निर्देश के बाद पुलिस और प्रशासनिक महकमा सक्रिय होकर रोमाला पूर्ति की मदद में जुट गया है। मामले में डीसी सूरज कुमार ने गुरुवार को ही संबंधित विभागीय अधिकारियों को लाभुक से मिलकर तत्काल राशन सामग्री का सहयोग करने के अलावे मूल समस्या की जानकारी जुटाने के निमित्त आदेशित किया था। वहीं शुक्रवार सुबह कोल्हान के पुलिस डीआईजी राजीव रंजन सिंह ने अंकित आनंद के ट्वीट पर संज्ञान लेते हुए चाईबासा एवं जमशेदपुर पुलिस को रोमाला पूर्ति तक जरूरी मदद सुनिश्चित करने को कहा था। गुरुवार को ही भाजपा के पूर्व जिला प्रवक्ता अंकित आनंद ने अपने ट्विटर हैंडल के जरिये मामले को जिला प्रशासन एवं कोल्हान डीआईजी के संज्ञान में लाया था। जिसके बाद पूर्व विधायक कुणाल षाड़ंगी की संस्था नम्या फाउंडेशन ने तत्काल पहल करते हुए एक माह के राशन सामग्रियों का सहयोग किया था और राशनकार्ड एवं पेंशन के लिए विभाग स्तर पर निवेदन किया था।

मालूम हो कि रोमाला पूर्ति झारखंड पुलिस की सेवानिवृत्त महिला आरक्षी हैं। वे रिटायरमेंट से पूर्व चाईबासा और जमशेदपुर में योगदान दे चुकी हैं। एनओसी जमा नहीं होने की वजह से इनका पेंशन विभाग स्तर से अवरुद्ध था। साल 2019 में कैंसर से बेटे का निधन और इसके बाद एक दुर्घटना में इनके दोनों पाँव कट गये। इसके बाद से ही इनका जीवन अत्यंत कष्टकारी और चुनौतीयुक्त बन गया। पेंशन नहीं  मिलने की वजह से जीने-खाने पर भी आफ़त आ चुकी थी। सुंदरनगर के सेंट जूड्स स्कूल की कक्षा छठी तक पढ़ाई कर चुकी बेटी रिमझिम पूर्ति की पढ़ाई फ़ीस भुगतान नहीं होने की वजह से रुक गई। इस मामले में हालांकि गुरुवार को ही जिला शिक्षा विभाग के आरटीई सेल ने स्कूल को बच्ची की पढ़ाई शुरू करने संबंधित आदेश दिये हैं।

शुक्रवार की दोपहर में जिला आपूर्ति विभाग के अधिकारियों ने दिव्यांग सेवानिवृत्त महिला आरक्षी के तार कंपनी स्थित क्वार्टर पहुँचकर एक माह का कच्चा राशन और सब्जियों का सहयोग किया। वहीं, डीआईजी के बाद एसएसपी के स्तर से मिले निर्देश के बाद पुलिस लाइन के मेजर ने पहले तो स्वयं रोमाला पूर्ति से बात किया बाद में विभागीय पुलिस अधिकारियों ने घर आकर रोमाला पूर्ति से एनओसी प्रपत्रों पर हस्ताक्षर लिया जिसके बाद पेंशन की प्रक्रिया प्रारंभ हो सके। शनिवार सुबह महिला को जिला कोषागार आकर कागज़ी औपचारिकताएं पूरा करने को कहा गया है। दोनों पैर कटे होने के कारण जिला कोषागार तक ले जाने के लिए भी जमशेदपुर पुलिस सहयोग करेगी। जिला प्रशासन एवं पुलिस विभाग के स्तर से मिले सहयोग को अविश्वसनीय बताते हुए रोमाला पूर्ति ने शुक्रवार शाम भाजपा नेता अंकित आनंद को कॉल कर के आभार जताया। कॉल पर वे भावुक हो गई और फूटफूट कर रोने लगीं। उन्होंने कहा कि लाचार अवस्था और विभागीय जटिलताओं के कारण वे अपने हक की पेंशन मिलने की आशा मन से निकाल चुकी थीं और इसके लिये थककर प्रयास भी छोड़ चुकी थी। आय का साधन पूर्णतया ठप्प होने से अत्यंत गरीबी अवस्था में समय काटने की मजबूरी आन पड़ी। रोमाला पूर्ति ने कहा कि अंकित आनंद, नाम्या फाउंडेशन के सदस्यों के कारण यह सब मुमकिन हो पा रहा है। उन्होंने सहयोग कर रहे जिला उपायुक्त एवं पुलिस विभाग के अन्य अधिकारियों के प्रति भी धन्यवाद ज़ाहिर किया। इधर, ट्वीट पर संज्ञान लेकर मदद सुनिश्चित सुनिश्चित करने के लिए भाजपा नेता अंकित आनंद ने डीसी सूरज कुमार, कोल्हान डीआईजी राजीव रंजन सिंह एवं जमशेदपुर एसएसपी के प्रति कृतज्ञता ज्ञापित किया है।